अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन के दौरान राम मंदिर निर्माण के लिए सभी सम्प्रदाय के लोगों ने अयोध्या में किया मंथन

Anoop Kumar

Publish: Sep, 17 2017 04:11:20 (IST)

Ayodhya, Uttar Pradesh, India
अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन के दौरान राम मंदिर निर्माण के लिए सभी सम्प्रदाय के लोगों ने अयोध्या में किया मंथन

6 देशों और भारत के सभी राज्यों से सम्मलेन में पहुंचे प्रतिनिधि

अयोध्या . राम नगरी अयोध्या के बड़ा भक्त महल में चल रहे दो दिवसीय अन्तरराष्ट्रीय इछ्वाकु वंशीय सम्मेलन का रविवार को सम्पाना हो गया . इस दो दिवसीय बड़े आयोजन के तीसरे दिन समापन समारोह में शामिल होने के लिए अयोध्या के वरिष्ठ सन्त महंतों के साथ सिख व मुस्लिम धर्म गुरु पहुचे . नेपाली संस्कृति परिषद द्वारा आयोजित इस दो दिवसीय इछ्वाकु वंशीय सम्मेलन के समापन सत्र में नेपाली संस्कृति परम्परा से जुड़े सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रदर्शन भी हुआ . वहीँ विभिन्न धर्मों के धर्मगुरुओं ने देश की तरक्की के लिए आपसी भाईचारे की भावना को प्रमुख मार्ग बताया . समापन सत्र में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश जी ने कहा कि यह सम्मेलन नए भारत के निर्माण के लिए एक मार्ग बनायेग .इछ्वाकु सम्मेलन द्वारा हम सभी जातियों के लोगों को एक साथ छोड़कर भारत में एक नया आयाम बनाएंगे हिंदू मुस्लिम सिख इसाई सभी के आराध्य राम है इस कार्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य यही है कि भगवान राम के सभी अनुयाइयों को एक साथ जोड़ना है .

6 देशों और भारत के सभी राज्यों से सम्मलेन में पहुंचे प्रतिनिधि

वहीँ कार्यक्रम में मौजूद नेपाली परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक चौरसिया ने बताया कि विश्व हिंदू हिंसा से मुक्त हो हिंदू जैन बौद्ध सिख अपने आप में एक बहुत बड़ा उदाहरण है कि हम सभी एकता के सूत्र में बंधे हुए हैं श्री चौरसिया ने कहा कि इस इछ्वाकु वंशीय सम्मेलन में लगभग 6 देशों से और भारत के अनेक राज्यों से प्रतिनिधि सम्मेलन में भाग लेने आये हैं . सम्मेलन में नेपाल भूटान , म्यामार , यूरोप , इंडोनेशिया के कुछ सदस्य यहां पर मौजूद हैं , कार्यक्रम में शामिल होने संस्कृति मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी भी पहुंचे जहां पर उन्होंने सम्मलेन को संबोधित संबोधित करते हुए कहा कि मै यह मानकर चलता हूं कि मंदिर का झगड़ा मस्जिद का झगड़ा किसी का नहीं है ये झगड़ा केवल राजनीतिक रूचि का है भगवान श्री राम की धरती पर मैं प्रार्थना करता हूं कि भारत के इस संप्रदायवाद की लड़ाई समाप्त कर दे. इंद्रेश जी द्वारा ही राम मंदिर बनाने में सहयोग होगा क्योंकि उन्होंने एक हिंदू मुस्लिम सभी जातियों में सामंजस्य स्थापित किया है . कार्यक्रम में अयोध्या के रंगमहल के महंत रामशरण दास, दिगम्बर अखाडा के महंत सुरेश दास, राम बल्लभा कुंज के अधिकारी राजकुमार दास , अयोध्या विधायक वेद गुप्ता , जसवीर सिंह , ईश्वर चैतन्य , बड़ा भक्त महल के महंत अवधेश दास , ज्ञानी गुरुजीत सिंह , बौद्ध भिक्षु छीरसागर ,निशेन्द्र मोहन मिश्र गुड्डू सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे .

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned