राम मंदिर ट्रस्ट को मिलेंगे 10 करोड़, हिंदू व्यक्ति ने दिया जमीन दान देने का ऑफर

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद राम मंदिर बनाने की तैयारी तेजी से हो गई है।

अयोध्या. अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद राम मंदिर बनाने की तैयारी तेजी से हो गई है। इसी क्रम में रामलला को प्राप्त चढ़ावे व दान के रूप में करीब 10 करोड़ की नकदी भी ट्रस्ट के हिस्से जाएगी। बता दें ये रकम कमिश्नर अयोध्या के खाते में जमा है। केंद्र सरकार को इस संबंध में रिपोर्ट भेज दी गई है।

कमिश्नर के बैंक खाते से हो रहा पूरा हिसाब किताब

रामलला पर चढ़ावे का पूरा हिसाब-किताब कमिश्नर के बैंक खाते से ही होता था। लेकिन नई व्यवस्था के अनुसार ट्रस्ट अब ये सारे काम करेगा। बता दें रामलला के नाम से भू-संपत्ति दर्ज नहीं है, भूमि नजूल के खाते में है। रिपोर्ट में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार 2।77 एकड़ भूमि समेत भव्य राम मंदिर के लिए अधिगृहीत पूरी जमीन की देखरेख भी सरकार की ओर से बनने वाला ट्रस्ट करे।

पुजारियों और कर्मचारियों को इतनी मिलती है तनख्वाह

अन्य खर्च की बात करें तो रामलला के मुख्य पुजारी को 13 हजार रुपए प्रति माह मिलते हैं, वहीं चार अन्य पुजारियों को 8-8 हजार रुपये मासिक दिया जाता है। इसके अलावा कार्यरत 4 कर्मचारियों को तो 6-6 हजार रुपये दिए जाते हैं। वहीं राग-भोग के लिए हर महीने करीब 30 हजार रुपये मिलते हैं। रामलला समेत अन्य विराजमान विग्रहों के वस्त्र आदि के लिए इस बार रामनवमी पर 51 हजार रुपये मिला था, जबकि वस्त्र से लेकर पंचमेवा, पांच तरह की पंजीरी, पंचामृत आदि में खर्च 56 हजार हुआ था। वैसे रामनवमी पर इसके पहले 42 हजार ही मिलता था।

हिंदू व्यक्ति ने दिया 5 एकड़ जमीन दान देने का ऑफर

अयोध्या के एक निवासी राजनारायण दास ने ऑफर दिया है कि वो अपनी पांच एकड़ जमीन मस्जिद के लिए दान में देने को तैयार हैं। तहसील सोहावल के मुस्तफाबाद निवासी राजनारायण दास का कहना है कि उनके पास बड़ा गांव के पास सारंगापुर रोड पर पांच एकड़ जमीन है। उसे मस्जिद बनने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। वो सहर्ष इस जमीन को देने को तैयार हैं। उन्होंने बताया कि जल्द ही वो जिलाधिकारी से मिलकर जमीन दान देने के लिए प्रपोजल (प्रस्ताव) सौंपेंगे।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned