scriptRam temple will be the only one in the world with five domes | Ram Mandir : पांच गुम्बद वाला दुनिया का अकेला होगा राम मंदिर, जाने अलग दिखने वाली विशेषताएं | Patrika News

Ram Mandir : पांच गुम्बद वाला दुनिया का अकेला होगा राम मंदिर, जाने अलग दिखने वाली विशेषताएं

राम मंदिर निर्माण के लिए जल, थल और नभ में रिसर्च करने वाले बैज्ञानिको के द्वारा किया जा रहा मंथन

अयोध्या

Published: May 22, 2022 07:48:44 am

अयोध्या. 500 वर्षों से जिस स्वरुप में मंदिर निर्माण का इंतजार करोड़ों राम भक्त कर रहे थे। वह समाप्त होने जा रहा है। मंदिर निर्माण के लिए सीएम योगी गर्भगृह के मूल पत्थर को विधि विधान पूर्वक रखेंगे। राम मंदिर ट्रस्ट की मानें तो ये दुनिया का सबसे अनोखा मंदिर होगा। जिसमें 1 या 2 नहीं बल्कि हजारों विशेषताएं होंगी जो दुनिया भर के मंदिरों से अलग होगी।
पांच गुम्बद वाला दुनिया का अकेला होगा राम मंदिर, जाने अलग दिखने वाली विशेषताएं
पांच गुम्बद वाला दुनिया का अकेला होगा राम मंदिर, जाने अलग दिखने वाली विशेषताएं
दुनिया भर से अलग होगा अयोध्या का राम मंदिर

70 एकड़ में फैली राम जन्मभूमि परिसर में विश्व की ऐतिहासिक मंदिर का निर्माण आधुनिक तकनीक से वैदिक पद्धति पर हो रहा है। और इसके निर्माण में जल, थल और नभ में रिसर्च करने वाले वैज्ञानिक भी शामिल हैं। इसमें निर्माण कंपनी एलएंडटी मुख्य भूमिका निभा रही है। तो वहीं जमीन व उसके नीचे जल में भी रिसर्च करने वाली भारतीय भू भौतिक संस्थान के साथ राम मंदिर के गर्भगृह में सूर्य की पहली किरण भगवान श्री रामलला को सुशोभित करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष के बैज्ञानिक अनुसन्धान परिषद भी कार्य कर रही है।
दुनिया का पहला मंदिर बनेगा राम मंदिर

अयोध्या का राम मंदिर पांच गुम्बद वाला दुनिया अकेला राम मंदिर होगा। जिसके निर्माण के लिए गर्भगृह, रंगमंडप, नृत्यमण्डप के साथ दो और मंडप बनाये जाएंगे। साथ मंदिर में आधुनिक व्यवस्थाए होंगी। जिसके तहत मंदिर में ऑटोमेटिक साउंड व लाइटिंग होगी। इसके साथ ही मंदिर की सुरक्षा के लिए आधुनिक यंत्रों का प्रयोग किया जाएगा। जिसमे ऑटोमैटिक एक्सरे मशीन, स्क्रीन मशीन के साथ आने वाले श्रद्धालुओं के सामानों को रखने के लिए बनने वाली यात्री सुविधा केंद्र में पासवर्ड से चलने वाली लॉकर की लगाए जाएंगे।
वैदिक पद्धति से बन रहा अयोध्या का राम मंदिर

अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण आधुनिक यंत्रों से किया जा रहा है लेकिन मंदिर के निर्माण में प्राचीन पद्धति अपनाई गई है राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय निर्माण जानकारी देते हुए बताया कि 40 फुट जमीन में मंदिर की नींव तैयार किया गया है। जिसमें लोहे के सरिया का प्रयोग नहीं किया गया है। बल्कि ईञ्जिरिंग के जारिए जमीन को ठोस बनाया गया है। वही अब मंदिर निर्माण के लिए ग्रेनाइट पत्थर से ही 21 फुट ऊंचा चबूतरा बनाया जा रहा है जिस पर राजस्थान के पिंक सैंड स्टोन से मंदिर का निर्माण होगा। लगभग 3 एकड़ में तैयार होने वाले इस मंदिर के पत्थरों को जोड़ कर ही बनाया जाएगा। न ही किसी केमिकल का इस्तेमाल होगा और नही लोहे का उपयोग किया जाएगा। ट्रस्ट की मानें तो प्राचीन पद्धति ही मंदिर को हजारों वर्षों तक सुरक्षित रख सकती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Eknath Shinde Property: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से 12 गुना ज्यादा अमीर हैं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जानें किसके पास कितनी संपत्तिपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के आवास में घुसने वाले शख्स ने परिसर को समझ लिया था कोलकाता पुलिस का मुख्यालयबीजेपी नेता कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में लिखा - 'हम तुम्हें जीने नहीं देंगे'हैदराबाद के एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे RCP सिंह तो BJP में शामिल होने की लगने लगी अटकलें, भाजपा ने कही ये बातप्रदेश के भोपाल, इंदौर समेत 11 नगर निगमों में मतदान 6 को, चुनावी शोर थमाकानपुर मेट्रो: टनल बनाने का काम शुरू, देश को समर्पित करने के विषय में मिली ये जानकारीउदयपुर कन्हैया हत्याकांड का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने पर युवक गिरफ्तारवरिष्ठता क्रम सही करने आरक्षकों की याचिका पर विभाग को 21 दिन में निर्णय लेने का आदेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.