राम मंदिर आंदोलन में शामिल रहे पूर्व सांसद वेदांती ट्रस्ट पर भड़के, लगाया साजिश का आरोप

डॉ रामविलास दास वेदांती का आरोप, जानबूझकर राम मंदिर को बनाया जा रहा छोटा

By: Hariom Dwivedi

Published: 14 May 2020, 04:59 PM IST

अयोध्या. पूर्व भाजपा सांसद डॉ. रामविलास दास वेदांती ने नवगठित श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्यों पर जन्मभूमि पर साजिश रचे जाने का आरोप लगाया है। राम मंदिर आंदोलन में शामिल रहे वेदांती ने कहा कि राममंदिर को जानबूझकर राम मंदिर को छोटा बनाया जा रहा है जबकि सरकार ने गगनचुंबी मंदिर बनाए जाने की मंशा जाहिर की थी। इस दौरान उन्होंने ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, महासचिव चंपतराय और सदस्य बिमलेंद्र मोहन मिश्र पर निशाना साधा। राम मंदिर के पक्ष में आए फैसले के बाद सरकार द्वारा गठित ट्रस्ट की देखरेख में मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो चुका है। ट्रस्ट के महासचिव ने मंदिर परिसर में डेरा डाल रखा है, लेकिन अयोध्या के संतों को इस कार्य से दूर रखा गया है। इससे राम मंदिर आंदोलन से जुड़े हुए संत काफी नाराज हैं।

भाजपा सांसद डॉ. रामविलास दास वेदांती ने कहा कि मंदिर आंदोलन में संतों की अहम भूमिका रही है, लेकिन मंदिर निर्माण के समय सरकार द्वारा गठित ट्रस्ट अयोध्या के संतों को भूल बैठी है। मंदिर निर्माण कार्य में संतों का कोई भी मत नहीं लिया गया है जबकि ट्रस्ट के लोग काफी दिनों से अयोध्या में हैं। इस दौरान उन्होंने किसी भी संत से मुलाकात भी नहीं की। वह सिर्फ कुछ राजनीतिक लोगों से ही मुलाकात कर रहे हैं।

पूर्व भाजपा सांसद ने ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास पर निशाना साधते हुए कहा कि श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन जब प्रारंभ हुआ। उससे पहले अशोक सिंघल के नेतृत्व में महंत पूज्य परमहंस दास के दिगंबर अखाड़ा में संतों की बैठक बुलाई गई थी, जिसमें गोरखपीठाधीश्वर महंत अवैद्यनाथ और अयोध्या के कई संत शामिल हुए थे। जबकि ट्रस्ट के सर्वेसर्वा बने कथा-कथित कांग्रेसी राम मंदिर आंदोलन की पहली बैठक में शामिल नहीं हुए थे। ट्रस्ट के सदस्य बिमलेंद्र मोहन मिश्र पर निशाना साधते हुए वेदांती ने कहा कि बसपा से चुनाव लड़ कर खुले मंच से राम मंदिर का विरोध करने वाले को ट्रस्ट में जगह दी गई है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के जिन लोगों ने खून-पसीना बहाया ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने उनसे मिलता तक उचित नहीं समझा। एक महीने से वह अयोध्या में हैं जो सिर्फ कोरोना का बहाना बताकर कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बसपा पार्टी के नेताओं से मुलाकात कर रहेे हैं।

Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned