Covid alert : जाने क्या हुआ कि जल्द लॉक डाउन लगाने की मांग करने लगे संत

प्रदेश में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए अयोध्या के संतों ने 15 दिन के लिए फुल लॉकडाउन की उठाई मांग

By: Satya Prakash

Published: 05 May 2021, 10:16 AM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या. यूपी में बढ़ते कोविड संक्रमण को लेकर अब अयोध्या संतों ने प्रदेश सरकार से लॉकडाउन लगाए जाने की मांग कर रहे है। दरअसल उत्तर प्रदेश सहित अयोध्या जनपद में महामारी की संख्या बढ़ने के साथ ही मृत्यु की संख्या भी तेजी से बढ़ता जा रहा है।

प्रदेश सिर्फ फुल लॉक डाउन की जरूरत

तपस्वी छावनी महंत paramhans Das ने बताया कि जल जीवन की रक्षा के लिए प्रदेश सरकार लॉक डाउन लगाएं। क्योंकि जन जीवन ही नगर नहीं रहेगा तो बचेगा क्या आज कोविड-19 से लोगों की जान जा रही है इसका एक ही उपाय है कि सावधानी से lock-down को बढ़ाना है। वहीं कहा कि प्रदेश सरकार यदि प्रदेश में 15 दिन के लिए पूर्ण रूप से लॉक डाउन कर दे तो जरूर इस महामारी को समाप्त करने में निर्णय सही साबित होगा। जिस प्रकार से पहले चरण में इस महामारी को कंट्रोल कर लिया गया था। जिस प्रकार से एक बार फिर जो महामारी तेजी से बढ़ रहा है इसका एक ही उपाय लॉकडाउन है।

महामारी में फेल हुई प्रदेश सरकार

खड़ेश्वरी मंदिर के महंत पुरुषोत्तम दास ने कहा कि अब एक ही उपाय इस साफ दिखाई दे रहा है कि देश में लॉकडाउन लगा दिया जाए। जबकि इस महामारी के बीच प्रदेश सरकार बिल्कुल से विफल है। वह आरोप लगाया है कि लोगो के मौत का आंकड़ा कम बताया जा रहा है। यदि सही आंकड़ा लोगों को पता चलेगा तो स्वस्थ लोग भी बीमार हो जाएंगे। वही कहा कि प्रदेश सरकार अब कड़ाई के साथ lock-down लगाएं और जनता को निर्देश करें कि इसका पालन करें वही पंचायत चुनाव पर भी आरोप लगाया कि सरकार को चुनाव को नहीं कराना चाहिए था जिसका दुष्परिणाम शिक्षकों की मौत हुई है और तमाम कर्मचारी थी मर रहे हैं इसलिए सरकार फेल है लॉकडाउन के अलावा कोई चारा नहीं है।

Covid महामारी बढ़ाने में जनता का दोष : वेदांती

तो वहीं पूर्व सांसद डॉ रामविलास दास वेदांती ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के लोगों से अपील की है कि लोग घरों में ही रहे सड़कों पर ना निकले आवश्यक कार्य से ही निकले लेकिन प्रदेश की जनता सरकार के इस बात को नहीं मान रही है मैंने देखा पंचायत के चुनाव में बड़ी संख्या में लोग मतगणना स्थल पर पहुंच गए जबकि सरकार ने पहले ही प्रत्याशी वह मतगणना करने वाले कर्मचारियों को ही बुलाया गया था इसके बावजूद जनता जानबूझकर के आग में कूद रही है तो इसमें मुख्यमंत्री का दोष नहीं है। लोगों को खुद अपने कर्तव्य के बारे में सोचना चाहिए। वही बताया कि इसका हल लॉकडाउन नहीं है लॉकडाउन से बहुत से लोग परेशान हो जाते हैं जिसके कारण अयोध्या में मंदिरों तक लोग पहुंच नहीं पा रहे हैं मंदिरों में सरयू जल को लाने के लिए भी बाधाएं हो रही हैं। वही कहा कि अयोध्या का मूलधन यहां के यात्री थे। यात्रियों का आवागमन बंद हो गया जिससे अयोध्या का मूलधन समाप्त हो गया। इसलिए लोग अपने घरों में रहे एक दूसरे से दूरी बनाएं और मास्क लगाकर ही बाजार में न निकले जिससे जल्द से जल्द महामारी समाप्त हो लोग इस संक्रमण से बच सकें।

Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned