Ayodhya : उन्नाव की घटना के बाद सपा के मंत्री ने कहा योगी दें इस्तीफ़ा अपनी पूजा पाठ पर दें ध्यान

खबर के मुख्य बिंदु -

- लखनऊ में सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के धरने पर बैठने के बाद सियासत गरमाई

- अयोध्या में सपाइयों ने गांधी पार्क के सामने दिया धरना योगी सर्कार से इस्तीफे की मांग की

- पूर्व वन मंत्री तेज नारायण पांडे पवन ने प्रदेश की योगी सरकार पर लगाए बेहद गंभीर आरोप

अयोध्या : उन्नाव में एक मासूम के साथ पहले सामूहिक दुश्र्कर्म और इन्साफ मांगने के बदले उस पर पेट्रोल डालकर ज़िंदा जला देने की लोम हर्षक घटना को लेकर बीते चार दिनों से प्रदेश की सियासत में मानो भूचाल से आ गया है | वहीँ शुक्रवार की देर रात पीड़िता की इलाज के दौरान दिल्ली के सफदजंग अस्पताल में हुई मौत की घटना के बाद प्रदेश भर में इस वारदात को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है और आम लोगों में गुस्सा है | इस मामले को लेकर सियासी दलों ने सत्तारूढ़ भाजपा की योगी सरकार को घेरने में कोई कमी नही छोड़ी एक तरफ जहां सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव लखनऊ में विधानसभा के सामने धरने पर बैठ गए तो वहीँ अयोध्या में भी इसका असर देखने को मिला और सपाइयों ने सिविल लाइन गांधी पार्क में धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया तो सपा के पूर्व राज्य मंत्री पवन पांडेय ने पत्रकार वार्ता कर प्रदेश सरकार पर हमला बोला है। राष्ट्रपति प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने और प्रदेश की योगी सरकार से बहन बेटियों की सुरक्षा न कर पाने और कानून व्यवस्था के मुद्दे पर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है।दुष्कर्म पीड़िता की उपचार के दौरान मौत की खबर पर प्रदेश में सियासी घमासान मच गया है। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए विधानसभा के सामने पार्टी नेताओं के साथ धरने पर बैठ गए तो जिले में भी सपाइयों ने मोर्चा खोल दिया। सपा कार्यकर्ता एमएलसी लीलावती कुशवाहा के नेतृत्व में सिविल लाइन गांधी पार्क में धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। हाथ में बेटियों को न्याय दो की तख्ती लिए सपा कार्यकर्ता नारेबाजी कर रहे हैं ।


मीडिया से मुखातिब सपा के पूर्व वन मंत्री तेज नारायण पांडे पवन ने कहा कि सरकार के अपराध के आंकड़े ही हकीकत बयां कर रहे हैं आंकड़े बता रहे हैं कि योगी सरकार कानून व्यवस्था के मुद्दे पर फेल हो गई है। प्रदेश में भाजपा की योगी सरकार बनने के बाद यह प्रदेश उत्तम प्रदेश के बजाय हत्या लूट डकैती बलात्कार प्रदेश बन गया है चारों तरफ अपराध की बाढ़ आ गई है। देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट कई बार उत्तर प्रदेश में जंगलराज होने की सख्त टिप्पणी कर चुकी है। इतना सब कुछ होने के बाद योगी सरकार को सत्ता में रहने का कोई नैतिक हक नहीं है। राष्ट्रपति से मांग की कि ऐसी अक्षम और कानून व्यवस्था के मुद्दे पर असफल सरकार को तत्काल बर्खास्त करें। मुख्यमंत्री योगी से मांग रखी कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाली भाजपा सरकार के राज में की इज्जत आबरू और जिंदगी सुरक्षित नहीं रही। योगी सरकार अपना इस्तकबाल कायम करने कानून व्यवस्था का राज स्थापित करने और बहन बेटियों को सुरक्षा देने में सक्षम हो गई इसके चलते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे और सरकार चलाने के बजाय अपने पुराने काम पूजा-पाठ पर ध्यान दें।

अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned