बड़ी खबर : अयोध्या के मंदिरों में घुसा बाढ़ का पानी संतों की जान खतरे में नहीं पहुंची है सरकारी मदद

पूजा पाठ पर खड़ा हुआ संकट सुरक्षित स्थानों की ओर संतों ने किया पलायन

By: अनूप कुमार

Published: 18 Aug 2017, 02:45 PM IST

अयोध्या .बीते पखवाड़े भर से धार्मिक नगरी अयोध्या में बढ़ रहा सरयू नदी का जलस्तर अब तबाही का रूप ले चुका है .शुक्रवार को अयोध्या में केंद्रीय जल आयोग की माप के अनुसार सरयू नदी खतरे के निशान से 99 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है .फिलहाल नदी इस समय स्थिर स्थिति में है बावजूद इसके नदी का पानी अयोध्या के रिहायशी इलाकों में घुस गया है .बड़ी खबर यह है कि बाढ़ के पानी के चपेट में अयोध्या के मंदिर आ गए हैं जिसके कारण अब साधु संतों को भी काफी समस्या हो रही है और उन्हें अपना आश्रम छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जगह लेनी पड़ रही है .आशंका इस बात की है सरयू नदी का जलस्तर आने वाले दिनों में और बढ़ सकता है . वहीँ बाढ़ की विभीषिका झेल रहे साधू संतों और नागरिकों में इस बात की नाराजगी है कि अभी तक कोई सरकार मदद उन तक नहीं पहुंची है और हालात बेकाबू हो रहे हैं .

पूजा पाठ पर खड़ा हुआ संकट सुरक्षित स्थानों की ओर संतों ने किया पलायन

अयोध्या में सरयू पुल के पूर्वी दिशा में स्थित चौधरी चरण सिंह पार्क से सटे इलाके में जबरदस्त तरीके से बाढ़ के पानी ने घुसपैठ की है .जिसके कारण सरयू तट के किनारे बने कुष्ठ आश्रम और मधुकरिया संतों का आश्रम पानी में पूरी तरह से डूब गया है . इस आश्रम में रहने वाले तमाम संतों ने सुरक्षित स्थानों पर शरण ली है .वही शहरी आबादी और आम जन जीवन से दूर रहने वाले संतो ने बाढ़ के पानी के बीच रहना ही उचित समझा है और किसी तरह से वह भजन पूजन कर रहे हैं . वहीं अयोध्या के प्रसिद्ध फटिक सिला मंदिर में भी बाढ़ का पानी पूरी तरह से घुस गया है जिसके कारण पूजा पाठ पर संकट उत्पन्न हो गया है . नदी का पानी मंदिर के गर्भ ग्रह तक पहुंच गया है और संतों के लिए इस हालात में भगवान की सेवा पूजा करना मुश्किल हो रहा है . आश्रम में रहने वाले संतों में मनोहर दास का कहना है कि अभी तक उन्हें कोई सरकारी मदद नहीं मिली है रामबालक दास कहते हैं कि स्थानीय प्रशासन का कोई व्यक्ति अभी तक बाढ़ पीड़ितों का हाल चाल लेने नहीं आया है कमर तक पानी में घुसकर हमें जरूरी सामान लेने के लिए आश्रम के बाहर जाना पड़ता है नाव की व्यवस्था ना होने के कारण अक्सर पानी में लोग गिर जाते हैं . वही जलीय जीव जंतु आश्रम में घुसपैठ कर रहे हैं सबसे ज्यादा खतरा इस बात का है की बिलों में पानी भरने के कारण तमाम जहरीले जानवर अब सूखे स्थानों पर आसरा ढूंढ रहे हैं और मंदिरों और घरों की छतों पर चढ़ गए हैं . फिलहाल जीवनदायिनी सहयोग की विनाश लीला जारी है जिसे देखकर अयोध्या के नागरिक खौफ में आ गए हैं .

Show More
अनूप कुमार Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned