राम की पैड़ी पर 7 हजार वालंटियर्स जलाएंगे 5.5 लाख दीये, थ्री डी इफेक्ट संग पुष्पक विमान से उतरेंगे भगवान राम और माता जानकी

रामनगरी में चौथे दीपोत्सव को लेकर तैयारियां तेज हैं। दीपों की माला सजाने की योजना शुरू हो गई है। राम की पैड़ी पर सात हजार वॉलंटियर्स साढ़े पांच लाख दीये जलाए जाने की योजना है। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मनाए जाने वाले इस त्योहार को लेकर अवध विश्वविद्यालय प्रशासन तैयारी में जुट गया है।

By: Karishma Lalwani

Published: 27 Oct 2020, 03:29 PM IST

अयोध्या. रामनगरी में चौथे दीपोत्सव को लेकर तैयारियां तेज हैं। दीपों की माला सजाने की योजना शुरू हो गई है। राम की पैड़ी पर सात हजार वॉलंटियर्स साढ़े पांच लाख दीये जलाए जाने की योजना है। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मनाए जाने वाले इस त्योहार को लेकर अवध विश्वविद्यालय प्रशासन तैयारी में जुट गया है। हालांकि, इसे लेकर कमिश्नर की अध्यक्षता में जिले स्तर पर पहली बैठक हो चुकी है। लेकिन दीपोत्सव में जलने वाले साढ़े पांच लाख दीये को लेकर अभी मंथन का दौर जारी है। नगर निगम ने दीये और तेल उपलब्ध कराए जाने की प्रस्ताव शासन को दिया है। उधर, राम की पैड़ी की लंबाई लगभग 500 मीटर बढ़ जाने व सोशल डिस्टेंसिंग के साथ विवि प्रशासन ने पूरे राम की पैड़ी को 30 ब्लॉक्स में बांटने का निर्णय लिया है। विवि प्रशासन आठ नवंबर तक अपनी तैयारियां पूरी कर लेगा। इसके बाद घाटों पर अभ्यास कार्य शुरू हो जाएगा।

पुष्पक विमान से उतरेंगे भगवान राम और माता जानकी

अवध विवि के फाइन आर्ट डिपार्टमेंट से इस बार विशेष प्रस्तुत देने की तैयारी में है। अगर प्रस्ताव पास होता है, तो मुख्यमंत्री योगी के मंच के सामने के घाट को दीपों के जरिये सजाया जाएगा। यहां फाइन आर्ट डिपार्टमेंट के 100 बच्चे व पांच शिक्षिकाएं दीपों के जरिये लंका से पुष्पक विमान से लौटे भगवान राम व उनके परिवार का चित्रण करेंगे। इस कला को थ्री डी इम्पैक्ट से दिखाया जाएगा। इसके साथ ही मुख्यमंत्री के मंच के सामने फूलों की थ्रीडी इम्पैक्ट वाली रंगोली भी बनाई जाएगी।

अयोध्या में खुलेंगे चार फ्यूल स्टेशन

उत्तर प्रदेश सरकार अयोध्या की धार्मिक छवि को बरकरार रखने के साथ-साथ इसे पर्यटन स्थल में भी विकसित करना चाहती है। इसी क्रम में यहां रामलला के दरबार के पास सीएनजी फ्यूल स्टेशन खोलने का निर्णय लिया गया है। वित्त निदेशक एके तिवारी के अनुसार, अगले पांच सालों में अयोध्या में 500 करोड़ का इन्वेस्टमेंट कंपनी करेगी। एक साल में दौ गैस फ्यूल स्टेशन खुलेंगे। मार्च 2021 तक यह काम लगभग पूरा हो जाएगा। योजना सफल होने पर इसे प्रदेश के अन्य शहरों में भी लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यूपी में अगले पांच साल में 1600 करोड़ रुपये का निवेश ग्रीन गैस करेगी। अयोध्या के साथ ही लखनऊ, सुल्तानपुर और उन्नाव जैसे क्षेत्रों में भी कंपनी अपना प्रोजेक्ट तैयार कर रही है।

जगह की तलाश जारी

एके तिवारी का कहना है कि मार्च 2021 तक अयोध्या में रामलला मंदिर के पास कंपनी सीएनजी स्टेशन तैयार किया जाएगा। इसके लिए जगह की तलाश जारी है। वहीं, दूसरा सीएनजी फ्यूल स्टेशन अयोध्या के सोहरामऊ रोड पर खुलेगा। इसके लिए कंपनी ने जमीन तलाश ली है।

लखनऊ में वितरित होंगे 25000 सीएनजी कनेक्शन

यूपी में 61 सीएनजी स्टेशन हैं। जिसमें 1.4 लाख घरेलू पीएनजी कनेक्शन दिए गए हैं। वित्त निदेशक ने कहा कि लखनऊ में करीब 25000 सीएनजी गैस स्टेशन वितरित किए जाएंगे। इसके अलावा सुलतानपुर और उन्नाव जैसे क्षेत्रों में भी सीएनजी फ्यूल स्टेशन बढ़ाने और पीएनजी कस्टमर को बढ़ाने के लिए कंपनी की ओर से काम किया जाएगा। इन क्षेत्रों पर भी फोकस रहेगा।

90 प्रतिशत काम पूरा

वित्त निदेशक ने कहा कि कोविड-19 के कारण सीएनजी गैस स्टेशन के काम में आठ महीने की देरी हुई है। अनलॉक के बाद धीरे-धीरे व्यवसाय पटरी पर आए हैं। इस क्षेत्र में भी काम शुरू हो चुका है। लगभग 90 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है।

ये भी पढ़ें: व्यापारियों को प्रदेश सरकार ने दी बड़ी राहत, अब इस तारीख तक भर सकेंगे जीएसटी रिटर्न

Ram Mandir
Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned