वट सावित्री व्रत के अवसर अयोध्या में बरगद का पौधा रोपित करेंगे सुहागिने

कोरोना महामारी से मुक्ति पाने लिए महिलाएं समाज में पेड़ लगाने के लिए करेंगी प्रेरित

By: Satya Prakash

Published: 09 Jun 2021, 11:23 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या. ( covid-19 ) के इस दौर में ऑक्सीजन के महत्व व प्रदूषण मुक्त परिवेश की आवश्यकता से सभी को अवगत कराया। वायु प्रदूषण दूर करने के लिए पौधरोपण अति आवश्यक है। वट सावित्री व्रत के अवसर पर सुहागिनों ने संकल्प लिया है कि व्रत के बाद एक-एक बरगद का पौधा रोपित करेंगे। मुहिम में समाज का हर वर्ग शामिल हो रहा है।

बरगद का पौधा लगाएंगी सुहागन

वही अयोध्या की रहने वाली अध्यापिका पूर्णिमा श्रीवास्तव, सुमन श्रीवास्तव, ग्रहणी एकता अग्रवाल, व्यवसाई अरुणिमा श्रीवास्तव ने बताया कि राष्ट्रीय वृक्ष का दर्जा प्राप्त बरगद के पेड़ का अपना अलग ही धार्मिक महत्व है।जेष्ठ मास की अमावस्या को महिलाएं वट सावित्री पूजन पूजन करते हैं। बरगद के वृक्ष की संख्या धीरे-धीरे कम होती जा रही है।कस्बाई नगरों के साथ-साथ गांव में भी इक्का-दुक्का वृक्ष ही बचे हैं। ऐसे में प्रचुर मात्रा में ऑक्सीजन के लिए हमें बरगद का पौध रोपड़ करना चाहिए। बरगद प्राकृतिक ऑक्सीजन का खजाना है।

पेड़ लगाए जाने के लिए प्रेरित करेगी महिलाएं

उन्होने बताया है।कि पीपल व बरगद हमारी आस्था व संस्कृत का केंद्र वट वृक्ष का पूजन कर बरगद का एयरपोर्ट अवश्य रोपित करूंगी। उन्होंने कहा कि वृक्ष हमारे लिए अमूल्य धरोहर हैं। बरगद का पेड़ रोपित करने के साथ ही दूसरी महिलाओं को भी रोपित करने के लिए प्रेरित करूंगी।कोरोना काल में ऑक्सीजन के संकट ने वृक्षों का महत्व हम सबको बता दिया है। इसलिए वृक्ष लगाना हम सबके लिए बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा प्राणवायु देने वाला बरगद हम सबके जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। इस मुहिम में हर किसी को आगे आना चाहिए।

यह भी पढ़ें : राम नगरी में एक रंग डिजाइन की होंगी दुकानें

Satya Prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned