मकर संक्रांति को रखी जाएगी राम मंदिर की नींव, ट्रस्ट महासचिव ने की घोषणा

- मंदिर निर्माण के लिए चलाया जाएगा धनसंग्रह अभियान
- ज्यादा दान देने वालों की काटी जाएगी रसीद

By: Neeraj Patel

Published: 02 Jan 2021, 10:17 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
अयोध्या. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव व विहिप के अंतर्राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहा कि मकर संक्रांति को रामलला के मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा। दिसंबर 2023 तक मंदिर का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। शुक्रवार को वाराणसी के इंग्लिशिया लाइन स्थित विहिप कार्यालय में प्रेसवार्ता के दौरान विहिप नेता चंपत राय ने बताया कि नींव की मजबूती पर मंथन किया जा रहा है। इसमें आईआईटी मुंबई, गुवाहाटी, चेन्नई, रुड़की, एनआईटी सूरत, टाटा और एल एंड टी के विशेषज्ञ शामिल हैं। राम मंदिर की सुरक्षा को कई पहलुओं से देखा जा रहा है। भगवान राम का गर्भगृह जहां बनना है उसके नीचे की भूमि भुरभूरी बलुई मिट्टी वाली है। इसको ध्यान में रखते हुए पत्थर, कंक्रीट और तांबे का ही इस्तेमाल किया जाएगा। पांच एकड़ में मंदिर का परकोटा होगा और बाकी क्षेत्र में भी निर्माण का खाका तैयार हो चुका है।

मंदिर निर्माण के लिए धनसंग्रह अभियान चलाया जाएगा। मकर संक्रांति से माघी पूर्णिमा तक चलने वाला धन संग्रह कार्यक्रम विश्व का सबसे बड़ा सामाजिक एवं सांस्कृतिक अभियान होगा। अभियान के तहत 11 करोड़ घरों से संपर्क करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए आरएसएस और उसके अनुषांगिक संगठनों के तीन से चार लाख निष्ठावान कार्यकर्ताओं की टीमों को लगाया जाएगा। पूरे विश्व में चलेगा। दूसरे धर्म के लोग आगे आते हैं तो उनका भी सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि एक दूसरे धर्म के व्यक्ति ने मंदिर निर्माण के लिए दो लाख रुपये दिए हैं।

ये भी पढ़ें - राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा और दान नहीं तो कैसे जुटेगा 1100 करोड़, निधि में करना होगा समर्पण

ज्यादा दान देने वालों की काटी जाएगी रसीद

काशी प्रांत के अंतर्गत 16 हजार गांवों के 50 लाख परिवारों में कार्यकर्ता जाएंगे। उन्होंने बताया कि इस अभियान के लिए तीन-तीन कार्यकर्ताओं की टीम बनाई जाएगी, जो अपने-अपने गांव-मोहल्ले के लोगों के घर जाएंगे और राम मंदिर निर्माण के लिए सहयोग मांगेंगे। इसके लिए 10, सौ और एक हजार रुपए के कूपन तैयार किए गए हैं। इससे ज्यादा दान देने वालों को रसीद काटकर दी जाएगी।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned