उद्धव ठाकरे के अयोध्या दौरे का विरोध का ऐलान करने वाले संत व हिंदूवादी नेता नजरबंद

- शिवसेना प्रमुख की यात्रा पर हिंदू महासभा ने जताया विरोध
- उद्धव ठाकरे अयोध्या पहुंचे तो सरयू जल से धोएंगे श्रीरामजन्मभूमि- हिंदू महासभा
- साधु-संत भी नाराज, बोले श्रीराम विरोधी हैं ठाकरे
- अयोध्या नहीं मक्का मदीना जाएं उद्धव: महंत परमहंस दास

By: Hariom Dwivedi

Updated: 07 Mar 2020, 01:25 PM IST

अयोध्या. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के अयोध्या दौरे का विरोध करने का ऐलान करने वाले संत और हिंदू महासभा के लोगों को नजरबंद कर दिया गया है। इनमें हनुमानगढ़ी के पुजारी राजू दास, तपस्वी छावनी के महंत महंत परमहंस दास, हिंदू महासभा के जिलाध्यक्ष राकेशधर मिश्र और हिंदू महासभा से जुड़े व खाक चौक के महंत महंत परशुराम दास शामिल है। इन सभी उद्धव ठाकरे के अयोध्या आने का विरोध किया था। मिली जानकारी के मुताबिक, राकेशधर मिश्र को ककरही बाजार स्थित उनके आवास में नजरबंद किया गया है, जबकि तपस्वी छावनी के महंत परमहंसदास आश्रम में ही नजरबंद किए गए हैं।

'शिवसेना श्रीराम विरोधियों के साथ'
हिंदू महासभा के जिलाध्यक्ष राकेश दत्त मिश्र ने कहा कि उद्धव ठाकरे ने श्रीराम कारसेवकों पर गोली चलवाने वाली समाजवादी पार्टी के महाराष्ट्र अध्यक्ष को गले लगाकर सिद्ध कर दिया कि शिवसेना श्रीराम विरोधियों के साथ है। ऐसे श्रीराम विरोधी उद्धव ठाकरे को हिंदू महासभा अयोध्या की पवित्र भूमि पर पैर नहीं रखने देगी और उन्हें वापस लौटने पर बाध्य करेगी।

'परमहंस ने भी जताया विरोध'
तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने कहा था कि उद्धव ठाकरे को अयोध्या नहीं अब मक्का मदीना जाना चाहिए। अगर वह अयोध्या आते हैं तो उनके काफिले को अयोध्या के प्रवेश मार्ग पर ही काले झंडे के साथ रोकेंगे। जिला प्रशासन से उनके अयोध्या दौरे को अनुमति न दिये जाने का मांग करते हुए महंत ने कहा कि उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के नाम पर लोगों को ठगा है इसलिए अब अयोध्या में इनके लिए कोई स्थान नहीं है।

'सरयू जल से धोएंगे श्रीरामजन्मभूमि'
उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा पर विरोध जताते हुए अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रवींद्र कुमार द्विवेदी ने कहा कि उद्धव ठाकरे को अयोध्या आने का नैतिक अधिकार नहीं है। यदि उन्होंने यहां कदम रखा तो हिंदू महासभा श्रीरामजन्मभूमि को गंगा और सरयू जल के छिड़काव से पवित्र करवाएगी। जहां वे जाएंगे उन मंदिरों को धोया जाएगा।

सीएम बनने के बाद पहली यात्रा
महाराष्ट्र में सरकार बनने के बाद उद्धव ठाकरे की यह पहली अयोध्या यात्रा होगी। उद्धव ठाकरे सात मार्च को पहले रामलला के दर्शन कर श्रीराम का आशीर्वाद लेंगे। इसके बाद सरयू नदी के घाट पर आरती में भी शामिल होंगे। इससे पहले जून 2019 में उद्धव ठाकरे अयोध्या आए थे और भगवान राम की पूजा अर्चना की थी। उस समय तो उनके साथ शिवसेना के 18 सांसद भी थे।

Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned