रामजन्मभूमि पर संभावित फैसले को लेकर सतर्क हुआ पुलिस प्रशासन, भारी सुरक्षाबलों की हुई तैनाती

रामजन्मभूमि पर संभावित फैसले को लेकर सतर्क हुआ पुलिस प्रशासन, भारी सुरक्षाबलों की हुई तैनाती
रामजन्मभूमि पर संभावित फैसले को लेकर सतर्क हुआ पुलिस प्रशासन, भारी सुरक्षाबलों की हुई तैनाती

Akansha Singh | Publish: Oct, 06 2019 10:07:10 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद भुमि विवाद की सुनवाई 17 अक्टूबर की पूरी करने की नई समयसीमा तय की है।

अयोध्या. सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद भुमि विवाद की सुनवाई 17 अक्टूबर की पूरी करने की नई समयसीमा तय की है। इसी क्रम में पुलिस प्रशासन भी सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने की तैयारी में जुट गया है। अक्तूबर में होने वाले दीपोत्सव में प्रदेश, देश व विदेश के मेहमानों के साथ शहर की सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने की चुनौती होगी तो नवंबर में रामजन्मभूमि विवाद पर आने वाले संभावित फैसले को लेकर सुरक्षा व्यवस्था की बड़ी चुनौती प्रशासन के सामने खड़ी हो गई है।


सुरक्षा के मद्देनजर जिले में भारी संख्या में अर्धसैनिक बल व पुलिस बल के आने की संभावना को लेकर प्रशासन ने फोर्स को ठहराने के लिए शिक्षा विभाग से विद्यालयों की सूची मांगी है। अक्टूबर में दीपावली पर आयोजित दीपोत्सव समारोह व उसके बाद कार्तिक पूर्णिमा मेले को लेकर प्रशासन तैयारी कर रहा है। एसपी सिटी विजय पाल सिंह कहते हैं कि फिलहाल अभी पुलिस दीपोत्सव व कार्तिक मेले की सुरक्षा इंतजाम में जुटी है, बाकी के लिए अभी कोई निर्देश नहीं मिला है। वहीं, डीआईओएस आरबी सिंह चौहान का कहना है कि पुलिस विभाग का पत्र मिला है, इसको लेकर स्कूल के प्रबंध तंत्र व प्रधानाचार्यों से बैठक की जा रही है।


नवंबर माह में श्रीरामजन्मभूमि विवाद पर आने वाले संभावित फैसले के बाद यहां की सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता करने की तैयारी में जुट गया है। इसके लिए पुलिस प्रशासन ने जिले के डीआईओएस व बीएसए से शहर व उसके आसपास स्थित सभी स्कूलों की सूची मांगी है। इसको लेकर पुलिस प्रशासन ने शहर के बड़े धर्मशाला, गेस्ट हाउस व अन्य सार्वजनिक स्थलों पर भी निगाह गड़ा दी है। इसके लिए संभावित स्थानों की सूची तैयार की जा रही है। हालांकि अधिकारी इस संदर्भ में अभी कुछ कहने से बच रहे हैं, लेकिन सूत्र बताते हैं कि जिले में करीब सौ से लेकर डेढ़ सौ कंपनी पुलिस बल को ठहराने के इंतजाम करने का प्रयास किया जा रहा है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned