श्री श्री के सुलह समझौते की पहल पर विहिप का बड़ा बयान

Ruchi Sharma

Publish: Feb, 15 2018 04:58:28 PM (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India

अयोध्या. राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद को सुलझाने के लिए श्री श्री रविशंकर के साथ नदवी आगे दिख रहे थे, लेकिन श्री श्री के करीबी अयोध्या सदभावना समन्वय समिति के अध्यक्ष अमर नाथ मिश्रा ने नदवी पर बड़ा आरोप लगा दिया। जिससे विवाद को कोर्ट से बाहर सुलझाने की राह अब मुश्किल होती दिख रही है। वहीं विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने बताया कि श्री राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए अब एक सिर्फ मात्र रास्ता संसद है। अब एक कानून बना कर हिन्दू समाज पर सौपना चाहिए तथा इसके पूर्व जिस प्रकार से सुप्रीम कोर्ट में मामला चल रहा है और धीरे धीरे तिथियों की रूकावटे आ रही है वह चिंतनीय है।

अब 14 मार्च की तिथि निर्धारित हुई है और आगे भी सुनवाई होगी कोर्ट का हम सम्मान करते है। कोर्ट द्वारा जो भी फैसला लिया जाएगा वह समाज के सामने आना ही है। दूसरी बात यह है कि राम जन्मभूमि में जहाँ पर रामलला विराजमान है उसके नीचे एक विष्णु हरि का मंदिर निकला है जो की खोदी के दौरान साफ तौर पर दिखाई दिया। अब सारे तथ्य आदालत के सामने है अब कोर्ट को निर्णय करना है कि यह संपत्ति किसकी है जो कि एक बार पहले ही निर्धारित हो चुका है। तथ्यों के आधार पर और अब अदालती कार्रवाई में उसको सम्मान पूर्वक स्वीकार भी करना है। उन्होंने कहा कि अब इस समझौते की धारणा समाप्त होना चाहिए और उस स्थान पर मंदिर को स्वीकार कर लेना चाहिए और मुस्लिम लोगों को अब दावा भी छोड़ देना चाहिए।

Ad Block is Banned