जल निगम घोटाले में आजमगढ़ के 13 कर्मचारियों की सेवा समाप्त

यूपी में सपा सरकार के दौरान पूर्व नगर विकास मंत्री आजम खां के कार्यकाल में जल निगम में हुई 1188 नियुक्तियों के रद करने के आदेश के बाद कार्रवाई शुरू हो गई है।

By: Neeraj Patel

Published: 07 Mar 2020, 12:36 PM IST

आजमगढ़. यूपी में सपा सरकार के दौरान पूर्व नगर विकास मंत्री आजम खां के कार्यकाल में जल निगम में हुई 1188 नियुक्तियों के रद करने के आदेश के बाद कार्रवाई शुरू हो गई है। जिले में 2016 में नियुक्ति पाने वाले दो एई और 11 जेई की सेवा समाप्त कर दी गई है। इस कार्रवाई से हड़कंप मचा हुआ है। सूत्रों की मानें तो बर्खाश्त कर्मचारी अब हाईकोर्ट की डबल बेंच में अपील करने की तैयारी कर रहे हैं।

पूर्व नगर विकास मंत्री आजम खां के कार्यकाल में जल निगम में 2016-17 हुई 1188 नियुक्तियों के दौरान कुछ अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया था कि मेरिट सूची में ऊपर होने के बावजूद उनका चयन नहीं किया गया। जबकि कम मेरिट वालों को नौकरी दे दी गई है। भर्ती में बड़े पैमाने पर धांधली की शिकायतों के बाद हाईकोर्ट ने एसआईटी को जांच सौंपी थी। एसआईटी की जांच में आरोप सही पाए जाने पर सरकार ने उन कर्मचारियों की बर्खास्तगी के आदेश दिए थे।

शासन के आदेश के बाद आजमगढ़ जलनिगम में कार्यरत द्वितीय निर्माण खंड के सहायक अभियंता आसिफ खां, सहायक अभियंता फैसल सलामत, अवर अभियंता अभिषेक, अक्षय कुमार चैधरी, अनिल कुमार, बृजेश मद्धेशिया, गिरिजेश, लवकुश, महेश्वर दयाल, राघवेंद्र सिंह, शिवम अग्रहरि, तारकेश्वर प्रसाद, उमेश कुमार मौर्या, नैत्यिक लिपिक अमन सिंह और आशुतोष सिंह की सेवा समाप्त कर दी गई है। हालांकि सूत्रों का मानना है कि कर्मचारियों का संगठन डबल बेंच में अपील करने की तैयारी कर रहा है।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned