आजमगढ़ में जहरीली शराब पीकर मरने वालों की संख्या 17 हुई, पीड़ितों से मिलने पहुंचे नेता

आजमगढ़ में जहरीली शराब पीकर मरने वालों की संख्या 17 हुई, पीड़ितों से मिलने पहुंचे नेता

आम आदमी पार्टी के नेताओं ने की 10-10 लाख रुपये मुआवजे की मांग।

आजमगढ़. जिले के सगड़ी तहसील क्षेत्र में जहरीली शराब से गुरुवार को शुरू हुई मौतों की संख्या शनिवार की दोपहर तक बढ़कर 17 पहुंच गई। दर्जन भर लोगों को वाराणसी के लिए रेफर किया गया है, जहां कईयों की हालत गंभीर बतायी जा रही है। उधर पीड़ितों से नेताओं के मिलने का सिलसिला भी चला। आम आदमी पार्टी के नेताओं ने मुलाकात की तो बीजेपी के नेता भी पहुंचे।




सगड़ी तहसील क्षेत्र अंतर्गत रौनापार थाना क्षेत्र के सरदौली गड़थौली बुढ़ानपुर केवटहिया गांव में गुरुवार को दिन में जहरीली शराब पीने से पहली मौत शराब विक्रेता रामवृक्ष की हुई। इसके बाद केवटहिया गांव निवासी मृतक रामवृक्ष के भाई चरित्तर, श्यामप्रीत, शिवकुमार, रामनयन, रामकरन, पड़ोसी गांव ओढ़रा सलेमपुर निवासी सोबरी पासवान, केशव पासवान व रामअवध तथा बातन ग्राम निवासी सत्यदेव की मौत हो गई। 10 लोगों की मौत से शासन-प्रशासन हिल गया। देर रात रौनापार थाना क्षेत्र के औराभार ग्राम निवासी सतई राम (48), केवटहिया ग्राम निवासी बजरंगी (55) व मोहनलाल (30) ने दम तोड़ दिया। इसी दौरान क्षेत्र के अजमतगढ़ कस्बे के फूलचंद माली (50), रामनयन गोड़ (45), मोती डोम (48) तथा रवी (18) की जहरीली शराब पीने से मौत हो गई।




हालत बिगड़ने पर आधा दर्जन से ज्यादा लोगों को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। शुक्रवार को जिला अस्पताल में भर्ती कराए गए केवटहिया ग्राम निवासी दुर्गविजय, मनोज, रामाश्रय, बृज नारायण के साथ ही केवटहिया ग्राम निवासी सुदामा, निरुपा, रामाश्रय व घमंडी, चिलबिली ग्राम निवासी राजेंद्र, अजमतगढ़ निवासी बद्री राजभर, विनोद शर्मा व शिव राजभर को वाराणसी के लिए रेफर कर दिया गया है। आशंका जतायी जा रही है कि मरने वालों की तादाद बढ़ सकती है। उधर पुलिस भी मौतों के बाद जागी और छापेमारी शुरू कर दी।




आम आदमी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल जिला अस्पताल पहुंचकर उपचाराधीन पीड़ितों का हाल जाना और मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये मुआवजे की मांग किया। उन्होंने जिले में शराब माफिया के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की। प्रदेश प्रवक्ता व जिला संयोजक राजेश यादव ने कहा कि सरकार चाहे जिसकी हो, जहरीली शराब से जनपद में घटनाएं नहीं रूक रही हैं। इससे स्पष्ट है कि शराब माफिया व प्रशासन के सांठगांठ से यह अवैध व्यापार जिले के कुछ हिस्सों में कुटीर उद्योग का रूप ले चुका है। इसके लिए जिला अबकारी विभाग व पुलिस प्रशासन पूर्ण रूप से जिम्मेदार है। प्रतिनिधिमंडल में उमेश सिंह, रामरूप यादव, राघवेन्द्र सिंह, इसरार अहमद, अन्नू राय व तेजबहादुर यादव, मीडिया प्रभारी रवीन्द्र यादव शामिल रहे। 



केवटहिया गांव के मोहनलाल पुत्र फूलचंद की मौत हो गई थी। जिसे परिजन बिना पुलिस को बताए ही दाह संस्कार करने के लिए मऊ स्थित दोहरीघाट श्मशान घाट ले जा रहे थे। ओढ़रा सलेमपुर से मृतकों के परिजनों से मिल कर वापस लौट रहे भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष विनोद राय सगड़ी विधानसभा के प्रत्याशी देवेंद्र देवेंद्र सहित दर्जनों भाजपाइयों ने शव को रौनापार थाने के पास रोक लिया। परिजनों से कहा कि पहले जाकर के पीएम कराओ इसके बाद दाह संस्कार करना इस दौरान भारतीय जनता पार्टी व मृतक के परिजनों से बातचीत हुई इसके बाद शव को पीएम के लिए पुलिस ने भेजा। इस दौरान सदर विधानसभा के पूर्व प्रत्याशी अभिषेक उर्फ गुड्डू मिश्रा राजबहादुर सिंह नरेंद्र सिंह रामपाल सिंह शैलेश सिंह कृष्ण मुरारी विश्वकर्मा सहित कई दर्जन भारतीय जनता पार्टी के सदस्य थे।
खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned