गांधी आश्रम को दो करोड़ 21 हजार भुगतान की नोटिस, हो सकती है गिरफ्तारी

गांधी आश्रम को दो करोड़ 21 हजार भुगतान की नोटिस, हो सकती है गिरफ्तारी

Ashish Kumar Shukla | Publish: Nov, 10 2018 10:54:32 PM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

क्षेत्रीय गांधी राहुल नगर मड़या में कार्यरत 84 और 26 सेवानिवृत्त कर्मियों का वेतन व पीएफ आदि बकाया है

आजमगढ़. शहर के राहुल नगर मड़या स्थित क्षेत्रीय गांधी आश्रम के कार्यरत एवं सेवानिवृत्त कर्मियों का बकाया वेतन, पीएफ, ग्रेच्युटी और अर्जित अवकाश के बकाया भुगतान के प्रकरण पर वाराणसी कार्यालय सख्त हो गया है। लगभग 26 वर्ष से बकाया भुगतान को सहायक आयुक्त, भविष्य निधि कार्यालय वाराणसी ने गंभीरता से लिया है। संस्था के नाम दो करोड़, छह लाख 21 हजार 106 रुपये की आरसी जारी की है। यदि जल्द से जल्द जमा नहीं किया गया तो मंत्री व प्रबंध कमेटी के खिलाफ गिरफ्तारी के वारंट जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

क्षेत्रीय गांधी राहुल नगर मड़या में कार्यरत 84 और 26 सेवानिवृत्त कर्मियों का वेतन व पीएफ आदि बकाया है। इसमें 1980 से 2006 तक की मार्च 2016 की बैलेंस शीट के मुताबिक पीएफ फंड की कटी आरसी की धनराशि दो करोड़, छह लाख, 21 हजार 106 रुपये है, जबकि गांधी आश्रम के सेवानिवृत्त कर्मचारियों की ग्रेच्युटी का लगभग 1.15 करोड़ रुपये, आश्रम के कर्मचारियों का वेतन मार्च 2016 के मुताबिक 74,68,491 रुपये बकाया है।

पूर्व में भी इस संबंध में कई बार संगठन के पदाधिकारियों ने लिखा-पढ़ी की थी, जिसमें संस्था के पदाधिकारियों को संबंधित धनराशि भविष्य निधि संगठन वाराणसी कार्यालय में जमा करने के निर्देश दिए गए थे। कुछ दिनों तक यही चर्चा रही कि संबंधित धनराशि से गांधी आश्रम के लिए खरीदी गई जमीन को बेच कर जमा किया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

एकाउंट अफसर भविष्य निधि संगठन वाराणसी सुमित गुप्ता का कहना है कि क्षेत्रीय श्री गांधी आश्रम राहुल नगर मड़या के कार्यरत एवं सेवानिवृत्त कर्मियों के बकाया वेतन व पीएफ की दो करोड़ से अधिक बकाया के संबंध में संस्था के नाम आरसी जारी की गई है, लेकिन अभी तक जमा नहीं किया गया। जल्द से जल्द संस्था के पदाधिकारियों द्वारा जमा नहीं किया गया तो मंत्री एवं प्रबंध समिति के पदाधिकारियों की गिरफ्तारी के लिए वारंट जारी करने की प्रक्रिया की संस्तुति की जाएगी।

श्री गांधी आश्रम, राहुल नगर मड़या क्षेत्रीय सदस्य ठाकुर प्रसाद राय का कहना है कि फंड तो सभी कर्मचारियों का बाकी है जिसमें मेरा भी है। सिर्फ कागजों में ही फंड जमा होते गए। संस्था के पास केवल प्रापर्टी ही है, इसलिए उसी को बेचने के बाद ही बकाया भुगतान की समस्या का हल निकल सकता है।

गांधी आश्रम खादी कर्मचारी संगठन पूर्वी उत्तर प्रदेश वाराणसी के उपाध्यक्ष सत्यनारायण सिंह ने इस प्रकरण को लेकर जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया है। आरोप लगाया है कि संस्था के मंत्री और प्रबंध कमेटी के पदाधिकारियों एवं सदस्यों द्वारा कर्मचारियों का शोषण व उत्पीड़न किया जा रहा है। आरोप लगाया कि फंड का गबन करना, वेतन बिल न बनाना, वेतन भुगतान न करना और सेवानिवृत्त कर्मचारियों का पीएफ, ग्रेच्युटी और अर्जित अवकाश का भुगतान नहीं किया जा रहा है, इसलिए मंत्री व प्रबंध कमेटी के खिलाफ 12 नवंबर से राहुल नगर मड़या मुख्यालय पर अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन किया जाएगा। डीएम के नाम दिए गए ज्ञापन में बब्बन यादव, प्रह्लाद, राममिलन, राजेंद्र प्रसाद चौबे, अजय कुमार पांडेय, चंद्रदेव यादव सहित 54 कर्मचारियों के हस्ताक्षर हैं।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned