46 साल बाद जिंदा हो उठा मुर्दा

भतीजे की साजिश का हुआ था शिकार

आजमगढ़। भतीजे की साजिश और राजस्व विभाग की मिली भगत से 46 साल पूर्व अभिलेखों में मृत घोषित कर दिये गये राजबली लंबे संघर्ष के बाद खुद को जिंदा साबित करने में सफल रहे है। अब उन्हें 29 फरवरी को चकबंदी अधिकारी सगड़ी के न्यायालय में पेश होना है। 
बता दें कि सगड़ी तहसील के खीरी डिहा ग्राम निवासी राजबली को उसके भतीजे ने साजिश के तहत राजस्व कर्मियों की मिलीभगत से अभिलेखों में मृत घोषित करा दिया। इस बात की जानकारी होने पर अपने जिंदा होने के लिए संघर्ष कर रहे राजबली को मृतक संघ के अध्यक्ष लालबिहारी मृतक का मिला। लंबी लड़ाई के बाद बंदोबस्त अधिकारी सोमनाथ मिश्र ने पीडित द्वारा की गई अपील की सुनवाई करते हुए बीते 20 फरवरी को पूर्व में दिए गए आदेश को निरस्त कर दिया। साथ ही राजबली को 29 फरवरी को चकबंदी अधिकारी सगड़ी के न्यायालय में उपस्थित होने का निर्देश दिया। 
Devesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned