थोड़ी सी लापरवाही बरपा सकती है कहर, इस जिले में संसाधनों की है बेहद कमी

- 50 लाख आबादी वाले जिले के सरकारी अस्पातल में सिर्फ चार है वेंटीलेटर
- पूर्वांचल में सर्वाधिक लोग इसी जिले के रहते है विदेश
- तबलीगी जमात में शामिल कर कोरंटाइन कराना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती
- खास वर्ग के लोग बाहर से आये लोगों की सूचना देने में कर रहे है परहेज
- अब तक कई लोगों को संक्रमण के बाद जबरदस्ती ले जाना पड़ा है अस्पताल

By: Neeraj Patel

Published: 01 Apr 2020, 11:56 AM IST

आजमगढ़. कोरोना का संकमण रोकना देश के लिए ही नहीं बल्कि पूरे विश्व के लिए बड़ी चुनौती बन चुका है। पूर्वांचल के आजमगढ़ में अब तक सभी 14 संदिग्धों के सेंपल निगेटिब पाए गए है लेकिन यहां प्रशासन के सामने अब भी बड़ी चुनौती है। कारण कि यहां संसाधनों की भारी कमी है और अशिक्षा के कारण लोग प्रशासन की हिदायतों पर अमल भी नहीं कर रहे है। खुद प्रशासन से दावा किया है कि पांच प्रतिशत लोग लाक डाउन का पालन नहीं कर रहे हैं। खासतौर पर विदेश में रहने वाला मजदूर वर्ग। अब तक कई लोगों को प्रशासन को जबरदस्ती अस्पताल ले जाना पड़ा है। अब दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तबलगी जमात में शामिल लोग प्रशासन की चिंता और बढ़ा रहे है। कारण कि अब तक प्रशासन सिर्फ आठ लोगों को चिन्हित कर सका है जबकि यहां के दो दर्जन लोगों के जमात में शामिल होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। एक भी व्यक्ति में संक्रमण पूरे जिले पर भारी पड़ सकता है। कारण कि इस 50 लाख आबादी वाले जिले के सिर्फ एक सरकारी अस्पातल में चार वेंटिलेटर है।

बता दें कि आजमगढ़ पूर्वांचल के सर्वाधिक आबादी वाले जिलों में एक है। यहां 50 लाख लोग निवास करते है। तमाम प्रयास के बाद भी साक्षरता का प्रतिशत 70 का आंकड़ा पार नहीं कर सका है। जिले के करीब 25 प्रतिशत लोग रोजी रोटी के लिए देश के विभिन्न महानगरों अथवा विदेश में रहते है। इनमें से ज्यादातर मेहनत मजदूरी करते है। कोरोना का संक्रमण शुरू होने के बाद लोग पलायन कर अपने घर पहुंच रहे है।

जिले के अस्पतालों में 850 बेड के कोरंटाइन वार्ड बनाए गए

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक जिले के 4125 गांवों में 1652 राजस्व ग्राम ऐसे है जहां 29 जनवरी 2020 के बाद कोई न कोई व्यक्ति देश के विभिन्न हिस्सों एवं विदेश से आया है। अब तक जिले में करीब 12 हजार लोग विदेश अथवा देश के अन्य महानगरों से आ चुके हैं। प्रशासन अपनी तरफ से कोशिश कर रहा है कि बाहर से आने वाले हर व्यक्ति को कोरंटाइन किया जाय। इसके लिए जिले के अस्पतालों में 850 बेड के कोरंटाइन वार्ड बनाए गए है। अब तक यहां बाहर से आये आठ हजार से अधिक लोेगों को उनके घर अथवा अस्पतालों में कोरंटाइन किया गया है। वहीं जिले में 14 लोग संदिग्ध चिन्हित किये गए जिनके सेंपल की जांच करायी गयी। सभी के सेंपल निगेटिव पाए गए है।

प्रशासन ने दो संदिग्धों को जबरदस्ती अस्पताल में भर्ती कराया

प्रशासन ने गांवों के प्राथमिक विद्यालयों को शेल्टर होम के रूप में विकसित करने का दिया है लेकिन यहां जो सबसे बड़ी समस्या है बड़ी संख्या में लोगों का प्रशासन का साथ न देना। अब तक शहर कोतवाली क्षेत्र में पड़ोसियों की सूचना पर प्रशासन ने दो संदिग्धों को जबरदस्ती अस्पताल में भर्ती कराया है। इन्हें अस्पताल में भर्ती कराने के लिए प्रशासन को परिवार के विरोध का सामना करना पड़ा था। जब कि यह दोनों शहरी क्षेत्र के थे। ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे कितने लोग है जो खुद को छिपा रहे हैं यह कह पाना मुश्किल है। कारण कि गांवों में जागरूकता का सर्वाधिक आभाव है।

ये भी पढ़ें - यूपी में कोरोना से हुई पहली मौत, आगरा में मिला एक और कोरोना पॉजिटिव, संक्रमितों की संख्या बढ़कर 104

और बढ़ गई प्रशासन की चुनौती

अब प्रशासन के सामने नई चुनौती दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तबलीगी जमात से लौट रहे लोग है। सूत्रों की माने तो जिले के दो दर्जन से अधिक लोग तबलीगी जमात में शामिल हुए है। देश से तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों में 24 के कोरोना पीड़ित मिलने व 200 लोगों में संक्रमण के लक्षण मिलने के बाद प्रशासन की चुनौती और बढ़ गयी है। कारण कि यहां से लौट रहे आजमगढ़ के लोगों में भी संक्रमण की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। रहा सवाल प्रशासन का तो अब तक जमात में शामिल सिर्फ आठ लोगों को ही चिन्हित कर सका है जिसमें चार शहर कोतवाली व चार सरायमीर थाना क्षेत्र के हैं। अभी यह लोग हासरथ में है। अन्य लोगों को चिन्हित करने का प्रयास हो रहा है। सभी को चिन्हित करना और कोरंटाइन करना प्रशासन के लिए असल चुनौती साबित होने वाली है। वैसे जिलाधिकारी नागेंद्र प्रसाद सिंह ने जमात में शामिल लोगो के लिए सख्त हिदायत जारी की है कि वे स्वयं खुद की जांच कराए नही ंतो परिवार के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज होगी।

Corona virus Corona Virus Precautions
Show More
Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned