दिल्ली माॅडल के साथ यूपी की कानून व्यवस्था व भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाएगी आप

बूथ से लेकर जिला इकाई तक को मजबूत बनाने में जुटी आम आदमी पार्टी

पंचायत चुनाव के जरिये विधानसभा चुनाव की तैयारियों का करेगी आकलन

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. सत्ता का सेमीफाइनल माना जा रहा यूपी का पंचायत चुनाव दिलचस्प होता नजर आ रहा है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल द्वारा यूपी विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद आम आदमी पार्टी पूरी ताकत के साथ मैदान में उतर गयी है। पार्टी जिला से लेकर बूथ तक की कमेटियों का गठन कर पंचायत चुनाव में बेहतर प्रदर्शन की रणनीति बनाने में जुट गयी है। खास बात है कि पार्टी विधानसभा चुनाव से पूर्व हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में भी दिल्ली माॅडल, यूपी की लचर कानून व्यवस्था व भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाने जा रही है।

बता दें कि यूपी के पूर्वांचल में पिछले तीन दशक से जातीय ध्रुवीकरण देखने को मिला है। अल्पसंख्यकों ने जहां बीजेपी को हराने वाली पार्टी को तरजीह दी है तो अन्य जातियों के लोग स्वजातीय प्रत्याशियों को तरजीह देते नजर आये हैं। यही वजह है कि वर्ष 1989 में जब कांशीराम तक चुनाव हार गए थे लेकिन आजमगढ़ सीट से रामकृष्ण यादव जीत कर बसपा के पहले सांसद बने थे। कारण कि यादव मतदाता खुलकर उनका सपोर्ट किये थे।

वर्ष 2014 से अब तक अति पिछड़ा खुलकर बीजेपी के साथ खड़ा है। पिछले चुनाव में राजभर मतदाताओं में गहरी पैठ रखने वाले सुभासपा मुखिया ओम प्रकाश राजभर बीजेपी के साथ थे लेकिन अगला चुनाव वे ओवैसी के साथ मिलकर लड़ेंगे। ऐसे में बीजेपी की चुनौती बढ़ी है। राजभर मतों को बिखरने से रोकना बीजेपी के लिए आसान नहीं होगा। अब आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने भी यूपी चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है। उन्होंने साफ कर दिया है कि उनकी पार्टी दिल्ली माॅडल पर चुनाव लड़ेगी। केजरीवाल लगातार दो चुनाव में दिल्ली में बीजेपी को मात दे चुके हैं।
पार्टी मुखिया की घोषणा के बाद प्रदेश इकाई चुनाव तैयारियों में जुट गया है। प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश यादव का दावा है कि सिर्फ दिल्ली माॅडल ही नहीं बल्कि उनकी पार्टी प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था और भ्रष्टाचार को भी चुनाव में मुद्दा बनाएगी। पार्टी पंचायत चुनाव भी पूरी ताकत के साथ लड़ेगी। इसके लिए बूथ से लेकर न्याय पंचायत, ब्लाक, तहसील और जिला इकाई को मजबूत बनाने का काम शुरू कर दिया गया है।

राजेश यादव का कहना है कि आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने वर्ष 2022 में यूपी में विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा कर यूपी वासियों को सौगात दी है। उत्तर प्रदेश की जनता धर्म जाति और मजहब की राजनीति से पूरी तरह ऊब चुकी है। प्रदेश की जनता महंगाई, भ्रष्टाचार, लचर कानून व्यवस्था और महिलाओं पर हो रहे अत्याचार से त्रस्त है। ऐसे में आम आदमी पार्टी प्रदेश में एक बेहतर विकल्प साबित होगी। जिस तरह से दिल्ली में लोगों को फ्री बिजली, फ्री पानी, मोहल्ला क्लीनिक, महिलाओं की सुरक्षा के लिए लगे सीसीटीवी कैमरे, प्राथमिक विद्यालयों में कॉन्वेंट स्कूल जैसी शिक्षण सुविधाएं उपलब्ध हो रही है। उसी तर्ज पर प्रदेश में आम आदमी की सरकार बनने पर लोगों को वही सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।

BY Ran vijay singh

AAP
Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned