परिषदीय स्कूलों की जांच के बाद सच आया सामने, 21 प्रधानाध्यापकों का रोका गया वेतन

परिषदीय स्कूलों की जांच के बाद सच आया सामने, 21 प्रधानाध्यापकों का रोका गया वेतन
Salary stopped

Sarweshwari Mishra | Updated: 11 Oct 2019, 02:30:29 PM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

अनुपस्थित दो शिक्षा मित्रों का एक दिन का मानदेय काटने का निर्देश

आजमगढ़. शासन के निर्देश पर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जिले की शिक्षा व्यवस्था को जायजा लेने के लिए अधिकारियों से परिषदीय विद्यालयों का निरीक्षण कराया तो कलई खुल गयी। कहीं स्कूल से बच्चे नदारद दिखे तो कहीं पुस्तक व ड्रेस का वितरण ही नहीं पाया गया। मामले को गंभीरता से लेते हुए बीएसए ने 21 प्रधानाध्याकों का वेतन रोकने के साथ ही दो शिक्षामित्रों का मानदेय काट दिया।


बता दें कि पिछले दिनों जिला विकास अधिकारी ने लालगंज ब्लॉक के प्रावि मईखरगपुर, जिला प्रोबेशन अधिकारी ने उच्च प्राथमिक विद्यालय जगदीशपुर, प्राइमरी विद्यालय मेहरो जगदीशपुर का निरीक्षण किया था। इसी प्रकार भूमि संरक्षण अधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय सिधौना द्वितीय, जिला समाज कल्याण अधिकारी ने प्राथमिक विद्यालय सिकरौरा प्रथम तथा उच्च प्राथमिक विद्यालय सिकरौरा का निरीक्षण किया था।


वहीं सहायक आयुक्त सहायक निबंधक ने प्राथमिक विद्यालय चंदेवरा, जिला उद्यान अधिकारी ने उच्च प्राथमिक विद्यालय चेवार पश्चिम, अपर जिला विकास अधिकारी समाज कल्याण ने ठेकमा ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय अवदह, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी ने ठेकमा के प्राथमिक विद्यालय अहिरौली कृतमलपुर, उपायुक्त श्रम रोजगार ने ठेकमा के प्राथमिक विद्यालय भीरा, जिलापूर्ति अधिकारी ने ठेकमा के प्राथमिक विद्यालय उदियावा, मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य विभाग ने प्राथमिक विद्यालय खेखवलिया, जिला ग्राम उद्योग अधिकारी ने पल्हना ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय ताहिरपुर, उच्च प्राथमिक विद्यालय ताहिरपुर, प्राचार्य डायट ने पल्हना ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय नरसिंहपुर, सहायक अभियंता द्वितीय निर्माण खंड जल निगम ने प्राथमिक विद्यालय जमुई, प्राथमिक विद्यालय चक भटौली, जिला पंचायत राज अधिकारी ने पल्हना के प्राथमिक विद्यालय चिलबिला तथा मुख्य पशु चिकित्साधिकारी पल्हना प्राथमिक विद्यालय रामपुर का निरीक्षण किया था।


निरीक्षण के दौरान तमाम खामियां पाई गयी। कई विद्यालयों में ड्रेस का वितरण नहीं हुआ था तो कहीं सफाई का अभाव दिखा। खेल सामग्री तो खरीदी गई लेकिन वह पैक पड़ा मिला। यहीं नहीं तमाम स्कूलों में छात्रसंख्या काफी कम थी। अधिकारियों की ओर से जांच आख्या मिलने के बाद जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी देवेन्द्र कुमार पांडेय ने 21 विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों का वेतन रोकने तथा पल्हना ब्लॉक के ताहिरपुर में अनुपस्थित शिक्षा मित्र प्रमिला मौर्य व रामपुर में अनुपस्थित शिक्षा मित्र रीना यादव के एक दिन का मानदेय काटने का निर्देश दिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned