scriptAkhilesh claim may backfire on SP Dalit workers angry | Lok Sabha by-election 2022-सपा पर उल्टा पड़ सकता है अखिलेश का दाव, इस वजह से दलित कार्यकर्ताओें में साफ दिख रही नाराजगी | Patrika News

Lok Sabha by-election 2022-सपा पर उल्टा पड़ सकता है अखिलेश का दाव, इस वजह से दलित कार्यकर्ताओें में साफ दिख रही नाराजगी

Lok Sabha by-election 2022 लोकसभा उपचुनाव सपा के लिए स्मिता की लड़ाई है। कारण कि यूपी विधानसभा चुनाव में यूपी हारने के बाद भी आजमगढ़ की सभी दस सीटों पर उसे जीत मिली थी। सपा ने उपचुनाव में पहले दलित नेता सुशील पर दाव लगाया था लेकिन अंतिम समय मेें उनका टिकट काटकर अखिलेश यादव ने अपने चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव को मैदान में उतार दिया है। इससे लड़ाई त्रिकोणीय हो गयी है लेकिन दलित नेताओं की नाराजगी से सपा की मुश्किल बढ़ गयी है।

आजमगढ़

Published: June 07, 2022 03:24:12 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. Lok Sabha by-election 2022 लोकसभा उपचुनाव में स्थिति साफ हो गयी है। आजमगढ़ सीट पर सपा, बसपा और भाजपा के बीच सीधे मुकाबले की उम्मीद है। तीनों ने दलों ने अपनी पूरी ताकत झोक दी है लेकिन वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी के रुप में देखे जा रहे उपचुनाव में सपा की मुश्किल बढ़ती दिख रही है। सपा मुखिया अखिलेश यादव अपने ही दाव में उलझते दिख रहे है। कारण कि सपा ने जिस तरह से दलित नेता सुशील कुमार का टिकट काट धर्मेंद्र यादव को मैदान में उतारा है उससे दलित नेताओं की नाराजगी बढ़ी है। इससे सपा की मुश्किल बढती दिख रही है। कारण कि विधानसभा चुनाव में पार्टी की एकजुटता का ही परिणाम था कि यूपी हारने के बाद भी पार्टी जिले की सभी दस सीटों पर बड़ी जीत हासिल करने में सफल रही थी।

अखिलेश यादव
अखिलेश यादव

बता दें कि आजमगढ़ जिला हमेशा से समाजवादी पार्टी का गढ़ रहा है। अस्तित्व में आने के बाद से ही सपा यहां राज करती रही है। वर्ष 2014 की मोदी लहर में बीजेपी आजमगढ़ जिले की लालगंज सीट जरूर जीतने में कामियाब हुई थी लेकिन आजमगढ़ संसदीय सीट से मुलायम सिंह यादव सांसद चुने गए थे। यह अलग बात है कि बीजेपी के रमाकांत यादव ने उन्हें कड़ी टक्कर दी थी। मुलायम सिंह मात्र 63 हजार वोटों से जीते थे। बसपा के गुड्डू जमाली तीसरे स्थान पर थे। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में सपा को यहां दस में से 9 सीटें मिली थी। सिर्फ एक सीट बसपा के खाते में गई थी। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में पूरे यूपी में बीजेपी की लहर थी लेकिन सपा पांच और बसपा चार विधानसभा सीट जीतने में सफल रही थी। केवल एक सीट फूूलपुर पवई बीजेपी के खाते में गई थी।

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा गठबंधन दोनों लोकसभा सीट जीत ने में सफल रही थी। अखिलेश यादव आजमगढ़ सीट से सांसद चुने गए थे। बीजेपी का यहां खाता नहीं खुला था तो वर्ष 2022 की विधानसभा चुनव में सपा ने सभी दस सीटों पर कब्जा किया है। विधानसभा चुनाव के बाद अखिलेश यादव द्वारा संसदीय सीट से त्यागपत्र देने के बाद यहां उपचुनाव हो रहा है। सपा को सीट का प्रबल दावेदार माना जा रहा है लेकिन बीजेपी ने यहां एक बार फिर फिल्म स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ पर दाव लगाया है जिन्होंने वर्ष 2019 में अखिलेश को कड़ी टक्कर दी थी। वहीं बसप ने गुड्डू जमाली को मैदान में उतारा है जो वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में एआईएमआईएम से चुनाव लड़ने के बाद भी 36 हजार वोट हासिल करने में सफल रहे थे। जमाली नेे 2014 में मुलायम सिंह को भी कड़ी टक्कर दी थी।

सपा ने पहली बार यहां दलित नेता पूर्व सांसद बलिहारी बाबू के पुत्र सुशील आनंद पर दाव लगाया था लेकिन पार्टी ने कुछ ही घंटों में उन्हों किनारे कर दिया और अखिलेश यादव ने अपने चचेरे भाई पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव को मैदान में उतार दिया। इससे मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है लेेकिन सपा की मुश्किल भी बढ़ गयी है। कारण कि अखिलेश के फैसले से दलित कार्यकर्ताओं में नाराजगी बढ़ी है। सपा का मकसद ही था सुशील आनंद के जरिए दलितों को साधना था ताकि वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव में इसका फायदा उठाया जा सके लेकिन अखिलेश के फैसले से अब सपा का उपचुनाव में ही नुकसान होता दिख रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे खेमे में आ चुके हैं सरकार बनाने भर के विधायक! फिर क्यों बीजेपी नहीं खोल रही अपने पत्ते?Maharashtra Political Crisis: ‘मातोश्री’ में मंथन! सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMaharashtra Political Crisis: 24 घंटे के अंदर ही अपने बयान से पलट गए एकनाथ शिंदे, बोले- हमारे संपर्क में नहीं है कोई नेशनल पार्टीBharat NCAP: कार में यात्रियों की सेफ़्टी को लेकर नितिन गडकरी ने कर दिया ये बड़ा काम, जानिए क्या होगा इससे फायदा2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामMumbai News Live Updates: शिवसेना ने कल पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ेंगे उद्धव ठाकरेनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकालCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.