scriptAkhilesh Yadav not participate in Lok Sabha by election campaign | Lok Sabha by-election 2022-आखिर अखिलेश ने क्यों बनाई आजमगढ़ से दूरी, जीत के लिए है आश्वस्त या फिर हार का डर ? | Patrika News

Lok Sabha by-election 2022-आखिर अखिलेश ने क्यों बनाई आजमगढ़ से दूरी, जीत के लिए है आश्वस्त या फिर हार का डर ?

विधानसभा चुनाव में सपा ने जिले की सभी दस सीटों पर कब्जा जरूर जमाया है लेकिन उपचुनाव उसके लिए कभी अच्छा नहीं रहा है। वर्ष 2008 में हुए उपचुनाव में सपा तीसरे स्थान पर खिसक गई थी और बसपा ने जीत हासिल की थी। वर्तमान चुनाव भी त्रिकोणीय संघर्ष में फंसा है लेकिन अखिलेश यादव प्रचार के लिए आजमगढ़ नहीं पहुंचे। ऐसे में यह जोरदार चर्चा है कि यह अखिलेश का ओवर कांफीडेंस है या फिर गढ़ में सपा को हार का खतरा दिख रहा है।

आजमगढ़

Published: June 21, 2022 01:49:19 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. लोकसभा उपचुनाव में प्रचार का शोर कुछ घंटों में थम जाएगा। राजनीतिक दलों ने उपचुनाव में जीत के लिए पूरी ताकत उतार दी है। सपा, बसपा, भाजपा के नेता से लेकर विधायक तक मैदान में दिख रहे है। बीजेपी ने तो मंत्रियों की फौज उतार दी है लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने चचेरे भाई के लिए वोट मांगने आजमगढ़ नहीं पहुंचे जबकि वर्ष 2019 में यहां के लोगों ने उन्हें अपना सांसद चुना था। ऐसे में चर्चा इस बात की हा रही है कि विधानसभा चुनाव में जिले की सभी 10 सीटों पर जीत दर्ज कर गढ़ बचाने वाली समाजवादी पार्टी का लोकसभा के उपचुनाव में वही दंभ बरकरार है। अखिलेश या तो आत्मविश्वास में हैं कि उनकी जीत पक्की है अथवा उन्हें हार का अंदेशा हो गया है। वैसे सपा जिलाध्यक्ष हवलदार यादव का दावा है कि पार्टी की तरफ से चुनावी जनसभा के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष को प्रस्ताव ही नहीं भेजा गया। उन्हें अवगत करा दिया गया कि उनके आए बिना ही पार्टी उप चुनाव जीत लेगी।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

बता दें कि बीजेपी ने यहां फिल्म स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ को मैदान में उतारा है। वहीं बसपा से शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली मैदान में हैं तो अखिलेश यादव ने अपने चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव को टिकट दिया है। देखा जाय तो निरहुआ की जीत सुनिश्चत करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, ऊर्जा मंत्री एके शर्मा ने जनसभा को संबोधित किया। वहीं कई पूर्व केंद्रीय मंत्रियों और कैबिनेट मंत्री व विधायकों को भी प्रचार में लगाया गया है। बीजेपी के विभिन्न संगठन भी चुनाव में पूरी ताकत झोंक दिये हैं।

वहीं दूसरी तरफ बसपा प्रत्याशी शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली को पार्टी के आधार वोट पर भरोसा है तो राष्ट्रीय उलमा कौंसिल का भी समर्थन मिल गया है। यही नहीं बसपा के एकलौते विधायक उमाशंकर सिंह सहित पार्टी के सारे कोआर्डिनेटर मैदान में उतर गए हैं। वहीं सपा प्रत्याशी के लिए मुख्तार अंसारी के पुत्र विधायक अब्बास अंसारी, विधायक अब्दुल्ला आजम, आजम खान, रामगोपाल यादव मैदान में नजर आए लेकिन सपा मुखिया यहां चुनाव प्रचार के लिए नहीं आए जिसके कारण यह सुर्खियों में है। कारण कि यह पहला चुनाव है जिससे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने दूरी बनायी है।

सपा का दावा है कि यह उप चुनाव हम अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष के आए बिना ही भारी मतों के अंतर से जीत लेंगे। इस उपचुनाव में जनता सपा मुखिया अखिलेश यादव के आने का इंतजार कर रह रही थी, लेकिन समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष हवलदार यादव ने स्पष्ट किया कि पार्टी की तरफ से चुनावी जनसभा के लिए प्रस्ताव ही नहीं भेजा गया, क्योंकि जनता और पार्टी पदाधिकारियों के बल पर हम उप चुनाव जीत लेंगे।

अब सपा के दावों में कितना दम है यह तो समय बताएगा लेकिन हकीकत यह है कि यहां चुनाव त्रिकोणीय फंसा है। सपा को बीजेपी और बीएसपी से बराबर की टक्कर मिलती दिख रही है। खासतौर पर उलेमा कौंसिल के समर्थन के बाद बसपा की दावेदारी मजबूत हुई है। चुनाव में मुस्लिम और अदर बैकवर्ड मतदाता निर्णायक की भूमिका में दिख रहे है। सपा ने मुस्लिम मतों को साधने के लिए फौज तो उतारी लेकिन ओमप्रकाश राजभर को छोड़कर कई बड़ा अति पिछड़ी जाति का नेता नजर नहीं आया। उपर से अखिलेश ने भी चुनाव से दूरी बना ली।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Cabinet Expansion Live Updates: तेजस्वी के पास सड़क, स्वास्थ्य व नगर विकास विभाग, तेज बने वन व पर्यावरण मंत्रीकौन होगा बिहार का नेता प्रतिपक्ष: जेपी नड्डा की मौजूदगी में दिल्ली में बैठक, इन मुद्दों पर भी होगी चर्चागुजरात में कांग्रेस को बड़ा झटका, 6 MLA बीजेपी में हो सकते हैं शामिलTarget Killing In Kashmir: 'मोदी सरकार कश्मीरी पंडितों की हिफाजत करने में हुई फेल', AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसीJammu-Kashmir: शोपियां में नाम पूछकर आतंकियों ने कश्मीरी पंडितों पर बरसाईं गोलियां, एक की मौत, लश्कर फ्रंट ने ली जिम्मेदारीJammu-Kashmir: पहलगाम में 39 ITBP जवानों को ले जा रही बस खाई में गिरी, 7 जवान शहीद, अमित शाह ने जताया दुखKejriwal Press Conference: केजरीवाल ने बताया कैसे बनेगा देश का हर गरीब अमीर, इन 4 बड़े कामों पर दिया जोरMumbai Rains: मुंबई और ठाणे में सुबह से हो रही तेज बारिश, कई जगहों पर जलभराव, जानें- लोकल ट्रेन और बेस्ट बस की स्थिति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.