लापरवाह सफाईकर्मी को डीएम ने दिया निलंबन का निर्देश

लापरवाह सफाईकर्मी को डीएम ने दिया निलंबन का निर्देश
आजमगढ़ डीएम ऑफिस

Mohd Rafatuddin Faridi | Updated: 16 Jul 2019, 08:10:48 AM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

  • विद्यालय का निरीक्षण कर जानी शिक्षा की गुणवत्ता।

आजमगढ़. जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह ने सोमवार को पूर्व माध्यमिक विद्यालय करनपुर एवं निराश्रित गोवंश आश्रय स्थल ग्राम किशुनपुर विकास खण्ड जहानागंज का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने जहां छात्रों के शिक्षा स्तर को परखा वहीं पशुशाला में सफाईकर्मी के न मिलने पर नाराजगी जताई और निलंबन का निर्देश दिया।
इसे भी पढ़ें

आजमगढ़ की किशोरी को धर्मस्थल में बंधक बनाकर रेप!

पूर्व माध्यमिक विद्यालय करनपुर के निरीक्षण दौरान विद्यालय में भूमि विवाद से संबंधित प्रकरण संज्ञान में आने पर उप जिलाधिकारी सदर को निर्देशित किया कि विद्यालय भूमि की पैमाइश तत्काल करायें। जिलाधिकारी द्वारा निराश्रित गोवंश आश्रय स्थल ग्राम किशुनपुर का निरीक्षण किया गया है। प्रधान द्वारा बताया गया कि इस आश्रय स्थल पर दिन में 02 सफाईकर्मी तथा रात्रि के लिए 01 सफाई कर्मी की ड्यूटी लगी है। 13 जुलाई 2019 की रात मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने निरीक्षण किया तो सफाईकर्मी अनुपस्थित पाया गया। जिस पर जिलाधिकारी द्वारा डीपीआरओ को सफाईकर्मी के निलंबन और नए सफाईकर्मी के तैनाती का निर्देश दिया।

इसे भी पढ़ें

गैस सिलिंडर से हो रहा था रिसाव, लाइटर जलाते ही आग का गोला बन गया किचन

प्रधान ने बताया कि आश्रय स्थल में वर्तमान में लगभग 180 निराश्रित पशु उपलब्ध हैं। इस आश्रय स्थल पर एक शेड बना है, जिसमें दोनों तरफ से लगभग 60 पशु एक साथ चारा खा सकते हैं। पशुओं की संख्या को दृष्टिगत रखते हुए जिलाधिकारी द्वारा जिला पंचायत राज अधिकारी/प्रधान को निर्देशित किया गया है कि दो और शेड/नाद का निर्माण करायें, जिसमें एक शेड में नर पशु, दूसरे शेड में मादा पशु एवं तीसरे शेड में छोटे पशुओं को रखा जाय। साथ ही वर्तमान शेड के दूसरे तरफ जहां कीचड़ है, वहां पर प्लेटफार्म का निर्माण कराया जाय, जिसमें दूसरी तरफ से पशु भी चारा खा सकें।

इसे भी पढ़ें

बुरी खबर: प्रमाण पत्रों में हेरा-फेरी कर नौकरी पाने वाले इतने शिक्षकों की जाएगी नौकरी

प्रधान ने बताया कि प्रतिदिन 10 कुन्तल भूसा लगता है, जिस पर जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि एक सप्ताह के लिए भूसा एकत्र रख लिया जाय, जिससे कि एक भी पशुओं की भूख के कारण मृत्यु न होने पाये। इसी के साथ ही उन्होने प्रभारी मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि अपने संबंधित चिकित्सकों को निर्देशित करें कि समय-समय पर निराश्रित आश्रय स्थल के पशुओं का उपचार करना सुनिश्चित करें।

इसे भी पढ़ें

अकेली छात्रा देखकर घर में घुस गए थे तीन बदमाश, लूट का हुआ था एफआईआर, अब हुए गिरफ्तार

ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि पास के गांव पकड़िया दाढ़ी, जलालपुर, गम्भीरवन, अकबेलपुर के लोग अपने पशुओं को छोड़ जाते हैं, जिस पर जिलाधिकारी ने डीपीआरओ को निर्देशित करते हुए कहा कि उक्त ग्रामीणों के साथ बैठक कर उन्हें ऐसा करने से मना करें, अन्यथा की स्थिति में पशु क्रूरता अधिनियम के अन्तर्गत नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी। इस आश्रय स्थल पर पशुओं के लिए एक तालाब बनाया गया है। जिलाधिकारी द्वारा सहायक विकास अधिकारी एवं ग्राम पंचायत विकास अधिकारी को निर्देशित किया कि तालाब के भीटे पर एवं अन्य खाली चारागाह की भूमि पर वन विभाग से सम्पर्क करके ऐसे पौधों का पौधरोपण किया जाये, जो पशु खाते हैं। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी सदर, जिला पंचायत राज अधिकारी, प्रभारी मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, सहायक विकास अधिकारी जहानागंज सहित अन्य कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

By Ran Vijay Singh

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned