बीत गया 2018, अब तक नहीं बन पाया आजमगढ़ जीजीआईसी निर्माण कार्य, अखिलेश राज में हुआ था पास

  • सवा तीन करोड़ रुपये स्वीकृत हुए थे राजकीय इंटर कॉलेज निर्माण के लिये।
  • कार्यदायी संस्था निर्माण अधूरा छोड़ गायब।

आजमगढ़. अधिकारी योजनाओं को लेकर कितने संवेदनहीन है इसका अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि तीन साल पहले मल्टी सेक्टोरल डेवलपमेंट कार्यक्रम के अंतर्गत करोड़ों रुपये की लागत से शुरू हुआ राजकीय इंटर कालेज का निर्माण आज भी अधूरा है। कार्यदायी संस्था के लोग आधा अधूरा काम छोड़कर फरार हो गए लेकिन अधिकारियों ने यह भी जानने की कोशिश नहीं की कि वे गए कहां। निर्माण पूरा कब होगा यह बताने वाला भी कोई नहीं है।

इसे भी पढ़ें

जौनपुर में चोरी के आरोप में तीन युवकों को नंगा करके पीटा गया, वीडियो वायरल होने के बाद सक्रिय हुई पुलिस

बता दें कि आजमगढ़-मऊ मुख्य मार्ग पर जमुड़ी में सितंबर 2016 में राजकीय इंटर कालेज का निर्माण शुरू हुआ था। उस समय लगा कि अब शिक्षा के लिए दूर तक भटकना नहीं होगा। खासतौर पर छात्राओं में शिक्षा को लेकर काफी उम्मीद जागी। उस समय कहा गया कि भवन निर्माण मार्च 2018 तक पूरा हो जाएगा लेकिन कुछ दिन बाद ही निर्माण बंद हो गया।

इसे भी पढ़ें

यूपी की इस सीट पर हो रहा है बैलेट पेपर से उपचुनाव, सिर्फ तीन प्रत्याशी मैदान में
जबकि इस भवन को बनाने के लिए तीन करोड़ 26 लाख 85 हजार रुपये स्वीकृत हुआ था। इस धन से कालेज मार्च 2018 तक पूरा किया जाना था, जो आज भी पूरा नहीं हो सका। राजकीय इंटर कालेज के भवन तो बने है, लेकिन आधे अधूरे। हालत यह है कि तीन साढ़े तीन करोड़ रूपये बर्बाद हो रहे है। अधिकारी आज तक यह जानने की जमहत भी नहीं उठाए कि कार्यदायी संस्था के लोग काम क्यों नहीं कर रहे है। डीआईओएस तो यह भी नहीं बता पाए कि कार्यदायी संस्था है कौन सी। इसी से अधिकारियों की विकास के प्रति संवेदनशीलता का अंदाजा लगाया जा सकता है।

By Ran Vijay Singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned