मुलायम के आजमगढ़ में मुखबिरों के दम पर क्राइम कंट्रोल में सफल रहे कप्तान

मुलायम के आजमगढ़ में मुखबिरों के दम पर क्राइम कंट्रोल में सफल रहे कप्तान -बेहतर पुलिसिंग के दम पर अपराधियों में खौफ कायम -45 दिनों के भीतर दबोचे गए

By: ज्योति मिनी

Published: 05 Aug 2017, 06:40 PM IST

आजमगढ़. सूबे की सत्ता बदलने के बाद जनपद में पुलिस कप्तान पद पर आसीन हुए एसपी अजय साहनी की बेहतर पुलिसिंग व्यवस्था से अपराधियों में खौफ है। 45 दिनों के भीतर मुखबिरों के दम पर पुलिस अधीक्षक ने अपने कार्यकाल में इनामी अपराधियों को मुठभेड़ के दौरान दबोचने में सफलता पाई। जनपद के पांच थाना क्षेत्रों में हुई मुठभेड़ के दौरान एक बदमाश मारा गया। जबकि एक सही सलामत पुलिस के हत्थे चढ़ गया। जबकि आधा दर्जन इनामी बदमाश मुठभेड़ के दौरान पुलिस की जवाबी कार्रवाई में गोली लगने से घायल हुए।

 

 

 

 

पुलिस अधीक्षक के कार्यकाल में 45 दिनों के भीतर हुई बदमाशों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ पर नजर डाली जाए तो बिलरियागंज थाना क्षेत्र में गत 26 मई को हुई मुठभेड़ के दौरान पांच हजार का इनामी जहांगीर उर्फ मिट्ठू निवासी स्थानीय ग्राम जयराजपुर तथा मऊ जिले के रानीपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत इटौली निवासी अपने साथी श्याम बाबू पटेल के साथ दबोचा गया। 13 जून को तरवां थाना क्षेत्र में 15 हजार का इनामी वैभव उर्फ छोटू यादव निवासी बागेश्वरनगर थाना शहर कोतवाली मुठभेड़ के दौरान पकड़ा गया। गिरफ्तार अपराधी वैभव पर कुल 28 अभियोग पंजीकृत हैं। 

इस अपराधी पर मध्य प्रदेश में भी तीन संगीन अभियोग दर्ज बताए गए हैं। तीन जुलाई को महाराजगंज थाना क्षेत्र में पुलिस और बदमाशों के बीच हुई मुठभेड़ के दौरान सिधारी थाना क्षेत्र के हलुवाडिह ग्राम निवासी 12 हजार के इनामी शुभम पांडेय तथा इसी थाना क्षेत्र के बभनौली अदाई ग्राम निवासी धर्मेंद्र हरिजन जिस पर पांच हजार का इनाम घोषित था। दोनों पुलिस के हत्थे चढ़ गए। इन दोनों अपराधियों के साथी साधु यादव निवासी ग्राम शेखपुरा थाना शहर कोतवाली जिस पर पांच हजार का इनाम घोषित था।

 

 

 

वह मुठभेड़ के कुछ ही घंटों पूर्व पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया था। इसकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस को जानकारी मिली थी कि शुभम पांडेय अपने साथी के साथ महराजगंज क्षेत्र में सर्राफा व्यवसाई की हत्या को अंजाम देने वाला है। 19 मई को सिधारी थाना क्षेत्र के नरौली इलाके से पुलिस अभिरक्षा से फरार इनामी अपराधी सागर उर्फ भीम फरारी के कुछ ही घंटो बाद शहर कोतवाली क्षेत्र के बाग लखरांव पुल के पास मुठभेड़ के दौरान दबोचा गया।

इस दौरान अपर पुलिस अधीक्षक एनपी सिंह गोली लगने से घायल हो गए थे। गिरफ्तार अपराधी सागर उर्फ भीम के ऊपर जनपद पुलिस की ओर से पांच हजार तथा दिल्ली पुलिस की ओर से एक लाख रुपए का इनाम घोषित था। इस अपराधी के खिलाफ पुलिस 42 संगीन अभियोग पंजीकृत हैं। इनमें डेढ़ दर्जन गंभीर अपराध दिल्ली के विभिन्न थानों में दर्ज बताए गए हैं।

इस घटना के बाद गुरुवार की दोपहर मेंहनगर थाना क्षेत्र के रामघाट कुटी के पास 15 हजार के इनामी अपराधी जयहिंद यादव तथा पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ के दौरान यह अपराधी पुलिस की गोली का शिकार होकर अपनी जान गवां बैठा। इस अपराधी के खिलाफ हत्या, लूट, रंगदारी व हत्या प्रयास के कुल डेढ़ दर्जन अभियोग जनपद के विभिन्न थाने के अलावा मऊ जिले के चिरैयाकोट थाने में भी दर्ज बताए गए हैं। पुलिस अधीक्षक के कुशल निर्देशन में अपराधियों के खिलाफ चलाए जा रहे इस अभियान से जहां पुलिस का मनोबल बढ़ा नजर आ रहा है, वहीं जिले में अपराधी भूमिगत हो जाने को मजबूर हो चले हैं।

 

ज्योति मिनी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned