अखिलेश यादव के लिये वोट मांगने पहुंचे बाहुबली मुख्तार के बेटे अब्बास अंसारी, कहा- इस चुनाव में भाजपा का होगा देश से सफाया

अखिलेश यादव के लिये वोट मांगने पहुंचे बाहुबली मुख्तार के बेटे अब्बास अंसारी, कहा- इस चुनाव में भाजपा का होगा देश से सफाया
अब्बास अंसारी

Akhilesh Kumar Tripathi | Publish: Apr, 16 2019 10:16:24 PM (IST) | Updated: Apr, 16 2019 10:16:25 PM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

कहा- भाजपा का यह अंतिम चुनाव है और इस चुनाव में भाजपा का पचास वर्षो के लिए देश से सफाया हो जायेगा।

आजमगढ़. आजमगढ़ संसदीय सीट से गठबंधन के प्रत्याशी सपा मुखिया अखिलेश यादव का चुनाव प्रचार करने पहुंचे बसपा के नेता अब्बास अंसारी ने भाजपा पर जमकर हमला बोला। अब्बास अंसारी ने कहा कि आजमगढ़ अखिलेश यादव प्रंचड बहुमत से चुनाव जीतेगें, साथ ही उन्होने कहा कि भाजपा का यह अंतिम चुनाव है और इस चुनाव में भाजपा का पचास वर्षो के लिए देश से सफाया हो जायेगा।


आजमगढ़ जिले के नगर के बलरामपुर, हर्रा की चुंगी आदि स्थानों पर समाजवादी पार्टी के पक्ष में चुनाव प्रचार करने के बाद नगर के हर्रा की चुंगी स्थित सपा के पूर्व मंत्री दुर्गा प्रसाद यादव के आवास पर बातचीत करते हुए बसपा नेता अब्बास अंसारी ने कहा कि भाजपा ने लोगों को ठगने का काम किया। पांच वर्षो में पूर्वांचल के सबसे बड़े हास्पिटल बीएचयू के इमरेन्सी वार्ड में 18 बेड ही लगे है। अगर मोदी जी चाहते तो उसे 1800 बेडों में बदल सकते थे। उन्होने कहा कि आये दिन प्रदेश में अपराध चरम पर है लेकिन योगी सरकार हमेशा अपराध नियंत्रण की बात करती है।

वर्ष 2016 में सपा से हुए विवाद के बाद अब अखिलश यादव के प्रचार के सवाल पर बसपा नेता ने अब्बास अंसारी भड़क गये। उन्होने कहा कि यह सवाल भाजपा ने आप से पूछने के लिए कहा था क्या। चुनाव से सम्बन्धित सवाल करिये। उन्होने कहा कि प्रदेश में भाजपा का सफाया होने जा रहा है और हालत यह है कि उनको आजमगढ़ के बगल की ही सीट घोसी पर प्रत्याशी भी नहीं मिल रहे है। अब्बास अंसारी ने कहा कि आजमगढ़ संसदीय क्षेत्र में बच्चे-बच्चे की जुबान पर अखिलेश यादव का नाम है। अखिलेश यादव यहां से प्रचंड बहुमत से चुनाव जीतेगें।


बता दें कि अब्बास अंसारी विधायक मुख्तार अंसारी के पुत्र है। उनकी पार्टी का वर्ष 2016 में समाजवादी पार्टी में नाटकीय ढंग से विलय हुआ था लेकिन तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मना कर दिया था। जिसके बाद उनकी पार्टी का बसपा में विलय हो गया। अब सपा और बसपा के गठबंधन के बाद वे अखिलेश के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे है।

 

BY- RANVIJAY SINGH

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned