आजमगढ़ में बेअसर दिखा कांग्रेस का भारत बंद, खुली रही दुकानें

आजमगढ़ में बेअसर दिखा कांग्रेस का भारत बंद, खुली रही दुकानें

Akhilesh Tripathi | Publish: Sep, 10 2018 04:11:29 PM (IST) Azamgarh, Uttar Pradesh, India

कांग्रेसियों ने मोदी सरकार को असफल करार देते हुए वर्ष 2019 के चुनाव में उखाड़ फेंकने का अाह्वान किया।

आजमगढ़. पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के साथ महंगाई को लेकर सोमवार को कांग्रेस के भारत बंद का आह्वान को जनता ने गंभीरता से नहीं लिया। खासतौर पर मुलायम सिंह यादव का गढ़ कहे जाने वाले आजमगढ़ में बंदी का कोई असर नहीं दिखा। निर्धारित समय पर बाजारें खुल गयी। वैसे कांग्रेसी चट्टी चौराहे से लेकर मुख्यालय तक सड़क पर उतरे और मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी है। लोगों ने मोदी सरकार को असफल करार देते हुए वर्ष 2019 के चुनाव में उखाड़ फेंकने का अाह्वान किया।

जिला मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाला। जुलूस नगरपालिका स्थित कार्यालय से निकाला गया। कार्यकर्ता जिलाध्यक्ष हवलदार सिंह के नेतृत्व में सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कलेक्ट्रेट चौराहे पर पहुंचे। यहां सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। इस दौरान बाजार पूरी तरह खुली रही। आम आदमी ने बंदी पर कोई रूचि नहीं दिखाई। प्रशासन बंदी को लेकर मुस्तैद नजर आया। कलेक्ट्रेट सहित प्रमुख चौराहों पर बड़ी संख्या में फोर्स तैनात की गयी थी।
हवलदार सिंह ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने चार साल में अपना एक भी वादा पूरा नहीं किया है। वादा था अच्छे दिन लाने का लेकिन डीजल पेट्रोल सहित जरूरत के सामनों की मंहगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है। युवा बेरोजगारी का दंश झेल रहा है। किसानों की हालत बद से बदतर है। यह सरकार सिर्फ पूंजीपतियों का भला कर रही है। आम आदमी से इसे कोई लेना देना नहीं है। सरकार की तानाशाही नहीं चलेगी। कार्यकर्ताओं ने डीएम के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा।
वहीं बूढ़नपुर, अतरौलिया, जीयनपुर, सगड़ी, मुबारकपुर, सरायमीर, फूलपुर लालगंज आदि क्षेत्रों में भी बंदी का कोई असर नहीं दिखा। सभी स्थानों पर कार्यकर्ताओं द्वारा जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया गया। कार्यकर्ताओं ने सरकार से डीजल पेट्रोल के दाम करने की मांग की। प्रदर्शन करने वालों में जैगम अब्बास, प्रमोद सिंह, मुन्नू यादव, चंद्रपाल सिंह यादव आदि उपस्थित थे।

 

BY- RANVIJAY SINGH

Ad Block is Banned