योगी राज में भूख से मर गया भोलानाथ, नोटबंदी के बाद नहीं मिल रहा था काम 

योगी राज में भूख से मर गया भोलानाथ, नोटबंदी के बाद नहीं मिल रहा था काम 
Bholanath

सत्‍ता परिवर्तन के बाद भी नहीं बदली व्यवस्था

आजमगढ़. यूपी में सत्‍ता परिवर्तन जरूर हुआ है लेकिन व्‍यवस्‍था नहीं बदली है। सरकार गांव और गरीबों को लेकर लाख दावा करे लेकिन सच सोमवार को उस समय सामने आ गया जब एक युवक ने आर्थिक तंगी के चलते आत्‍महत्‍या कर लिया। घटना की जानकारी होने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्‍टमार्टम कें लिए भेज दिया लेकिन कोई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा।

बताते है कि मुबारकपुर कस्‍बा के कटरा निवासी भोला नाथ 35 पुत्र रंगलाल ठठेरा साड़ी बुनाई में उपयोग होने वाले पत्ते की खोदाई कर अपने परिवार को भरण पोषण करता था। साड़ी व्यापार में मंदी के मार के चलते इस समय उसका यह काम काफी धीमा पड़ गया था। काम न मिलने के कारण भोला आर्थिक तंगी से परेशान था। उसके लिए परिवार चलाना मुश्किल हो गया था।

यह भी पढ़ें:
सीएम योगी की पुलिस पर हबीब खां का खौफ, मौत के बाद भी की यह कार्रवाई


इसी बीच पारिवारिक जरूरत को लेकर पति पत्‍नी में किसी बात को लेकर विवाद हो गया और आर्थिक तंगी से तंग भोला ने रविवार की रात लगभग आठ बजे आंगन में स्थित नीबू के पेड़ से फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली। देर रात दुकान बंद कर घर लौटे उसके भाई ने फंदे से लटकती लाश देखी तो शोर मचाया । इसके बाद पास पड़ोस के लोग मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने शव को पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया। परिजनों के मुताबिक गरीबी के चलते भोला ने आत्‍महत्‍या की।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned