मंडलायुक्त का बड़ा फैसला : अब काम नहीं तो दाम नहीं की नीति होगी लागू

पेंशन के प्रति गंभीर दिखे आयुक्त, दिया लंबित मामलों के त्वरित निस्तारण का निर्देश

By: Sunil Yadav

Published: 10 Nov 2017, 01:35 PM IST

आजमगढ़. आयुक्त सभागार में गुरूवार को आयोजित पेंशन अदालत में सेवानिवृत्त अधिकारियों और कर्मचारियों के लंबित पेंशन पर चर्चा की गई। समस्याओं को लेकर मंडलायुक्त के रविन्द्र नायक गंभीर दिखे। उन्होंने सीएमओ बलिया को तीन दिन में लंबित मामलों का निस्ताण करने की चेतावनी दी। ऐसा न होने पर काम नहीं तो दाम नहीं की नीति लागू करने को कहा।

 

पेंशन अदालत में आये 5 मामलें जिसमें से 2 का मौके पर ही निस्तारण किया गया तथा 3 मामलों पर त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिए गये। लंबित मामलों में 4 आजमगढ़ एवं 1 बलिया का पाया गया। प्रकरणों की समीक्षा के दौरान बलिया के चन्द्रा सिंह जो स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत रहे, उनके मामले को 3 दिन के अन्दर निस्तारित करने के निर्देश देते हुए कहा कि यदि निर्धारित समय-सीमा के अन्तर्गत निस्तारण नहीं हुआ तो “काम नही तो दाम नहीं, लागू होगा। इसी प्रकार उद्योग विभाग में वरिष्ठ सहायक के पद पर सेवानिवृत्त गुरूदास श्रीवास्तव के प्रकरण 8 माह से लंबित पाये जाने पर मण्डलायुक्त ने कड़ी नाराजगी प्रकट करते हुए कहा कि गुण-दोष के आधार पर प्रकरण का निस्तारण 72 घण्टे के अन्दर करने का निर्देश दिया।

 

मंण्डलायुक्त ने संयुक्त निदेशक कोषागार को निर्देश दिए कि पिछले दो साल के सेवानिवृत्त अधिकारी/कर्मचारी की जनपदवार सूची उपलब्ध कराये तथा यह स्पष्ट रूप से उल्लिखित होना चाहिए कि कितने कर्मी का पेंशन मिल रहा है और कितने का लम्बित है। मण्डलीय पेंशन अदालत का संचालन संयुक्त निदेशक कोषागार एवं पेंशन सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने किया। इस अवसर पर मुख्य राजस्व अधिकारी बलिया त्रिभुवन विश्वकर्मा, मुख्य कोषाधिकारी आजमगढ़ विजय शंकर, बलिया प्रकाश चन्द, सीनियर टीओ मऊ मनीष कुमार कुशवाहा आदि उपस्थित रहे।

 

सिंचाई करते समय करेंट की चपेट में आने से मजदूर की मौत

 

आजमगढ़. पवई थाना क्षेत्र के पछरा गावं में खेत की सिंचाई करते समय एक मजदूर करंट की चपेट में आने से बुरी तरह झुलस गया। उसे स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।


पवई थाना क्षेत्र के पछरा गावं निवासी विजय 18 पुत्र रमेश मेहनत मजदूरी कर परिवार की अजीविका चलाता था। गुरूवार को वह क्षेत्र के बागबहार गांव निवासी महेंद्र यादव के खेत की सिंचाई कर रहा था। अपराह्न करीब दो बजे पानी में गिरे तार के कारण करंट प्रवाहित होग गया। करंट की चपेट में आने से वह बुरी तरह झुलस गया। आनन फानन उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पवई ले जाया गया। जहां चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया। महेंद्र की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

Sunil Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned