आजमगढ़ सदरः यहां सपा का तिलिस्म तोड़ने को बेताब है भाजपा और बसपा

आजमगढ़ सदरः यहां सपा का तिलिस्म तोड़ने को बेताब है भाजपा और बसपा
Mayawati mulayam Singh Yadav and Amit Shah

बसपा और भाजपा ने सपा पर चला है उसी का दांव। जाति कार्ड खेलकर भेदना चाहते हैं सपा का दुर्ग। भाजपा ने ब्राह्मण तो बसपा ने ठाकुर पर आजमाया है दांव।

आजमगढ़. यहां एक सीट ऐसी भी है जहां सिर्फ प्रत्याशी ही नहीं बल्कि सपा मुखिया मुलायम ंिसह यादव की प्रतिष्ठा भी दाव पर होगी। कारण की यहां वर्ष 1993 के चुनाव को छोड़ दिया जाय तो दो दशक से सीट पर सपा का कब्जा है और पिछले लोकसभा में इस सीट से सपा मुखिया मुलायाम सिंह यादव सांसद चुने गये है। इस सीट पर सपा के तिलिस्म को तोड़ने के लिए बसपा ने बाहुबली ठाकुर पर दाव लगाया है तो भाजपा ब्राह्मण कार्ड खेलने की तैयारी में है। ऐसे में लड़ाई दिलचस्प होना तय है।



जी हां बात हो रही है आमजगढ़ (सदर) विधानसभा सीट की। यहां हुए पिछले दस चुनावो पर गौर करें तो 1977 में कांग्रेस के भीमा प्रसाद, 1980 में इदिरा कांग्रेस के राम कुंवर सिंह ने जीत हासिल की थी। इसके बाद वर्ष 1985 में दुर्गा प्रसाद यादव ने राजनीति में कदम रखा और जेल में रहते हुए निर्दल मैदान में उतरे।



दुर्गा ने कांग्रेस के जगपति राय को पराजित कर चुनाव में जीत हासिल की और माननीय बन गये। इसके बाद 1989 और 1991 के चुनाव में उन्होंने जनता दल के टिकट पर जीत हासिल की। इसके बाद वर्ष 1993 के विधानसभा चुनाव में बसपा के राजबली यादव ने दुर्गा प्रसाद को बरी तरह मात दी और विधायक चुने गये। इस चुनाव में भाजपा के सुनील राय दूसरे स्थान पर रहे। इसके तीन साल बाद वर्ष 1996 में हुए चुनाव में दुर्गा ने फिर जीत हासिल की। इसके बाद से अबतक वे अपराजेय बने हुए है। यानि 1996, 2002, 2007 और 2012 को चुनाव वे लगातार जीत चुके है।



दुर्गा के खिलाफ वर्ष 2007 से बसपा लगातार क्षत्रियों पर दाव लगा रही है। वर्ष 2007 के चुनाव में दुर्गा 43.96 प्रतिशत मत पाकर विजयी रहे थे जबकि बसपा के रमाकांत सिंह को 35.39 प्रतिशत मत मिला था। वर्ष 2012 के चुनाव में दुर्गा प्रसाद यादव रिकार्ड 93461 मत पाकर विजयी हुए थे जबकि दूसरे स्थान पर रहे बसपा के सर्वेश सिंह सीपू को 62067 मत मिले थे। रहा सवाल भाजपा का तो पार्टी ने जयनाथ सिंह को मैदान में उतारा था जो पूरी तरह फिसड्डी साबित हुए और मात्र 8561 मत तक सिमट गये। वहीं कांग्रेस के करूणाकांत मिश्र को 6633 मत पर संतोष करना पड़ा था।



निर्दल प्रत्याशी हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव ने 4206 मत हासिल किया था। सब मिलाकर यह क्षेत्र सपा का गढ़ बन चुका है। पिछले लोक सभा चुनाव में सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव आजमगढ़ संसदीय सीट से चुनाव लड़े तो यहां की जनता ने उन्हें सिर आंखो पर बैठाया। अब एक बार फिर विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू हो चुकी है। सभी दल सपा के इस तिलिस्म को भेदने की तैयारी में जुटे है। बसपा ने एक बार फिर क्षत्रिय पर दाव लगाया है।



पहले पार्टी ने सुशील कुमार सिंह को मैदान में उतारा था लेकिन बाद में उनका टिकट काटकर पिछले दिनों बाहुबली भूपेंद्र सिंह मुन्ना को मैदान में उतार दिया। रहा सवाल भाजपा को अभी उसने अपना पत्ता नहीं खोला है लेकिन माना जा रहा है कि पार्टी यहां ब्राह्मण कार्ड खेलेगी और अखिलेश मिश्र गुड्डू मैदान में नजर आयेगे।



बसपा, भाजपा और कांग्रेस के पास यहां खोने के लिए कुछ भी नहीं है। अगर वे यहां दुर्गा को हराने में सफल होती है तो यह उनके लिए बड़ी उपलब्धि होगी। कारण कि सीट पर अब सिर्फ दुर्गा नहीं बल्कि सपा मुखिया की भी प्रतिष्ठा लगी होगी। वैसे इस चुनाव में दुर्गा की राह भी पहले तरह आसान नहीं दिख रही है। एक तरफ अन्य पिछड़ों का झुकाव भाजपा की तरफ बढ़ा है तो दूसरी तरफ दुर्गा के घर में ही उनके विरोधी खड़े हो गये है जिसका फायदा उठाने की पूरी कोशिश विपक्ष करेंगा।



नाम के पीछे जुडा है इतिहास
तीन तरफ से आदि गंगा तमसा से घिर इस शहर को आजम खां नाम के शासक ने बसाया था। उन्हीें के नाम पर इस जिले का नाम आजमगढ़ पड़ा। स्वतंत्रता संग्राम मंे भी यहां के लोगों का महत्वपूर्ण योगदान रहा। 



जातीय राजनीति हमेशा रही है हावी
आजमगढ़। पिछले तीन दशक से यहां जातीय राजनीति हाबी रही है। खासतौर पर सपा और बसपा के अस्तित्व में आने के बाद जितने भी चुनाव हुए उसमें जातीय समीकरण हाबी दिखे। वर्ष 2017 के चुनाव में भी जातीय समीकरण हाबी दिख रहा रहा है। जिसे सपा और बसपा अपने पक्ष में मान रही है। यही वजह है कि बसपा ने लगातार तीसरी बार क्षत्रिय मैदान में उतारा है। पार्टी के थिंक टैक का मानना है कि दलित उसके साथ है यदि क्षत्रिय प्रत्याशी के कारण उसके साथ आ गये और कुछ मुस्लिम मतदाताओं का मत उसे मिल गया तो वह सपा के तिलिस्म को तोड़ने मंे सफल होगी। वहीं भजपा लोकसभा चुनाव में अति पिछड़ों के समर्थन से उत्साहित है। इनका मानना है कि यदि सवर्ण और अति पिछड़े उनके साथ आ गये तो वह दुर्गा को मात देने में सफल होगी। 


आजमगढ़ सदर विधानसभा
कुल मतदाता-        369804
पुरूष  मतदाता-      203473
महिला मतदाता-    166316
तृतीय लिंग-            15 



आजमगढ सदर के जातिगत आंकडे
ब्राम्हण-                 25 हजार
क्षत्रिय-                  45 हजार
वैश्य-                    50 हजार
मुस्लिम-               50 हजार
यादव-                   70 हजार
दलित  - 60 हजार 
अन्य -  70 हजार अन्य
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned