पंचायत चुनाव में फंस सकता है पेंच, इस वजह से ड्यूटी से इनकार कर रहे बीएलओ

पांच माह से मानदेय न मिलने से परेशान है अनुदेशक व शिक्षा मित्र

अनुदेशक व शिक्षा मित्रों पर ही है मतदाता सूची की जिम्मेदारी

दशहरा से पहले मानदेय न मिलने पर चुनाव ड्युटी का बहिष्कार

आजमगढ़. जिले में पंचायत चुनाव की तैयारियों का झटका लग सकता है कारण कि पांच माह से मानदेय न मिलने से परेशान अनुदेशक और शिक्षा मित्र कभी चुनाव तैयारियों में सहयोग बंद कर सकते हैं। हरैया ब्लाक के अनुदेशक और शिक्षा मित्र तो इस संबंध में बैठक कर प्रशासन को चेतावनी भी दे चुके हैं कि अगर मानदेय का तत्काल भुगतान नहीं हुआ तो वे चुनाव कार्य का बहिष्कार करेंगे। अगर ऐसा होता है तो प्रशासन के सामने बड़ी चुनौती खड़ी हो जाएगी। कारण कि पहले ही प्रशासन दस बीएलओ के खिलाफ कार्रवाई कर इनकी नाराजगी झेल रहा है।

बता दें कि आयोग के निर्देश पर एक अक्टूर को निर्वाचक नामावली के पुनरीक्षण का कार्याक्रम शुरू हुआ है। इसके तहत एक अक्टूबर से 12 नवंबर तक बीएलओ घर घर जाकर गणना व सर्वेक्षण का कार्य करना था लेकिन अभी यह कार्य पूरा नहीं हुआ है। बीएलओ आज भी सर्वे में लगे हुए है। जबकि 29 दिसंबर 2020 को मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन का निर्देश दिया गया है। जिस गति से काम चल रहा है उससे यह संभव नहीं नजर आ रहा।

वहीं हाल में पल्हनी ब्लाक की आठ व सठियांव ब्लाक की दो बीएलओ द्वारा कार्य में रूचि न लेने पर प्रशासन द्वारा इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गयी थी। इससे भी बीएलओ में नाराजगी है। अब बीएलओ का काम कर रहे शिक्षा मित्र और अनुदेशक मानदेय के मुद्दे पर प्रशासन को घेरने में जुटे हैं।

अनुदेशक और शिक्षा मित्रों का आरोप है कि प्रशासन उनसे चुनाव से लेकर जनगणना तक का काम लेता है लेकिन कभी भी मानदेय के बारे में नहीं सोचता। अनुदेशक राकेश सिंह यादव, राम मिलन यादव, रामानंद, सौम्या कश्यप, बंदना राय, रामकिशन, जानसन और शिक्षामित्र नागेंद्र सिंह, योगेंद्र यादव, प्रमोद यादव आदि का कहना है कि वर्तमान में उनसे बीएलओ का कार्य लिया जा रहा है लेकिन पिछले पांच माह से उन्हें मानदेय नहीं मिला है।

मानदेय न मिलने के कारण उनका परिवार भुखमरी की कगार पर खड़ा है। चुनाव ड्युटी में उन्हें घर घर जाना है। इसमें भी धन खर्च होता है लेकिन प्रशासन का ध्यान हमारी समस्याओं की तरफ नहीं है। दशहरा के पहले अगर अनुदेशकों और शिक्षा मित्रों का मानदेय भुगतान नहीं किया गया तो हम बीएलओ ड्यूटी का बहिष्कार करेंगे।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned