मोदी सरकार के खिलाफ लामबंद हुए बीएसएनएल कर्मचारी, आरपार की लड़ाई का आह्वान

मोदी सरकार के खिलाफ लामबंद हुए बीएसएनएल कर्मचारी, आरपार की लड़ाई का आह्वान
Bsnl employee

कर्मचारियों एवं अधिकारियों को वेतनमान संशोधन 1 जनवरी 2017 से लागू करने की मांग

आजमगढ़. तीसरा पीआरसी लागू करने सहित चार सूत्री मांगें पूरी न होने पर से नाराज बीएसएनएल कर्मचारियों ने मोदी सरकार के खिलाफ आर पार की लड़ाई का अाह्वान कर दिया है। इसमें उन्‍‍हें मजदूर सभा सहित कुछ संगठनों का भी साथ मिलता दिख रहा है। ज्वाइंट फोरम आफ एक्जीक्यूटिव एवं नॉन एक्जीक्यूटिव एसोसिएशन के आह्वान पर गुरूवार को इम्पलाइज यूनियन एंड एसोसिएशन आफ बीएसएनएल आजमगढ़ के बैनर तले कर्मचारियों ने कार्यालय परिसर विरोध प्रदर्शन किया। इसके बाद वे धरने पर बैठ गये।

बीएसएनएल ईम्पलाइज यूनियन की जिला सचिव प्रतिमा सिंह ने कहा कि समस्त कर्मचारियों एवं अधिकारियों को वेतनमान संशोधन 1 जनवरी 2017 से लागू किया जाये। पेंशनर का पेंशन संशोधन 1 जनवरी 2017 से लागू किया जाए, डायरेक्ट भर्ती कर्मचारियों एवं अधिकारियों को 30 प्रतिशत सुपर एनीवेशन बेनिफिट दिया जाए, ट्रेड यूनियन एक्टिविटी पर लगाया गया प्रतिबंध अविलम्ब वापस लिया जाए। यदि ऐसा नहीं हुआ तो हम चुप नहीं बैठेंगे।


यह भी पढ़ें:

पीएम मोदी ने छीन लिया विरोधियों का सबसे बड़ा हथियार, अब शुरू होगा सपा व बसपा मिशन



सचिव प्रतिमा सिंह ने आगे बताया कि अगर सरकार हमारी मांगों पर शीघ्र विचार नहीं करती है तो हम आगामी दिनों में वृहद पैमाने पर विरोध करेंगे। सरकार बीएसएनएल का नीजिकरण करने के लिए षड्यंत्र कर रही है लेकिन हम सरकार के मंसूबों को सफल नहीं होंने देंगे चाहे इसके लिए हमें जो भी कीमत चुकानी पड़े, हमारा यह आंदोलन मांग पूरी होने तक जारी रहेगा।

जिला सचिव अवनीश सिंह ने बताया कि वर्तमान सरकार की नीतियां बीएसएनएल कर्मी विरोधी है, अगर सरकार तीसरा पीआरसी नहीं लागू करती है तो हम सरकार के खिलाफ मुखर होकर प्रदर्शन से तनिक भी हिचकेंगे नहीं। वेतन संशोधन लागू न होने से अधिकारियों व कर्मचारियों में रोष व्याप्त है।

पंचानन राय ने कहा कि संगठन के जरिये सरकार की करनी को हम सभी के बीच में लाते है, इसलिए सरकार हम पर लगाम कसना चाहती है लेकिन आंदोलन का अधिकार संविधान में सुरक्षित है। सरकार अपनी कमियों के छिपाने के लिए ट्रेड यूनियन पर प्रतिंबंध लगा  रही है जबकि संगठन की मांगे जायज है, सरकारी हमारी मांगों पर विचार करे और अतिशीध्र हमारी समस्याओं का निस्तारण करें अन्यथा हम सभी वृहद आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।
भारतीय मजदूर संघ के धर्मेन्द्र सिंह राय ने कहा कि कर्मचारियों पर सरकार का ढुलमुल रवैया हम कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे सरकार कर्मचारी हित में कार्य करें। लेबर कान्टैक्टर बबलू सिंह ने भी धरने को समर्थन दिया।

इस मौके पर कांता प्रसाद, राजेश सोनकर, राजाराम, आरएस राम, रामफेर राम, गौरव सिंह, मुनी लाल, सुनील सिंह, जितेन्द्र, प्रतिमा सिंह, मंजू राय, सुदामी देवी, राजमंगल यादव सुनील एसपी पांडेय, सुनील उपाध्याय, महेश कुमार, नंदलाल यादव, रामाश्रय, एसपी चौहान, अशोक तिवारी, राजपति देवी, आरके यादव, नंदलाल यादव, अशोक, जेपी यादव, जसवंत सोनकर, जयप्रकाश सिंह, कुन्नू लाल, मदन मोहन यादव, अमरजीत यादव, रामाशीष, सुदर्शन चौहान, रंजित सिंह, तौफीक आलम, लालबहादुर, रमाकांत यादव, नरेन्द्र प्रजापति, मुर्तुजा अली, परमेश्वर शाह, सुबाष श्रीवास्तव, हरिशंकर तिवारी, अरविन्द्र सिंह यादव, जमशेद, सर्वेश, रामाश्रय यादव, विवेक विश्वकर्मा, शिवशंकर, सारिक, हरिवंश लाल, हीरालाल, अरविन्द मौर्या, दरोगा लाल, इन्द्राज यादव, राजाराम यादव, रामभुवाल, रामप्रताप श्रीवास्तव, सुभाष, संतोष कुमार सिंह, रफीक आलम, अशोक यादव, प्रशांत यादव, रामप्रकाश सोनकर, यू.के. सिंह आदि उपस्थित थे।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned