आजमगढ़ में बोलीं मायावती, बीजेपी प्रत्याशी को इतनी बुरी तरह हरायेंगे कि दुबारा चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं होगी

आजमगढ़ में बोलीं मायावती, बीजेपी प्रत्याशी को इतनी बुरी तरह हरायेंगे कि दुबारा चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं होगी
मायावती

Akhilesh Kumar Tripathi | Publish: May, 08 2019 05:07:14 PM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

मायावती ने कहा कि पांच चरण में गठबंधन के पक्ष में अच्छी रिपोर्ट है और बाकी चरण और भी बेहतर रहने वाले हैं।

आजमगढ़.सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के लिये वोट मांगने पहुंची बसपा सुप्रीमो मायावती ने भाजपा पर जमकर हमला बोला । मायावती ने कहा कि आजमगढ़ सीट से लड़ रहे अखिलेश यादव ऐतिहासिक जीत दर्ज करने वाले हैं और इस बार बीजेपी के प्रत्याशी को इतनी बुरी तरह हरायेंगे कि वह व्यक्ति कभी भी इनके खिलाफ चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा पायेगा ।


मायावती ने कहा कि पांच चरण में गठबंधन के पक्ष में अच्छी रिपोर्ट है और बाकी चरण और भी बेहतर रहने वाले हैं। इस बार चुनाव में यहां हमारे लोग नमो नमो वालों की जरूर छुट्टी करने वाले है और जय भीम लाने वाले है। चाहे आरएसएस बीजेपी के लोग जाति धर्म के नाम पर कितने ही हथकंडे ही क्यों न अपना ले। बौखलाए बीजेपी के लोग हमारे संस्कारी रिश्ते पर व्यंग्य कर रहे है जबकि इन्हें इसका सम्मान करना चाहिए।


मायावती ने कहा कि यूपी में गठबंधन बनने के बाद बीजेपी के लोग बौखलाए हुए हैं। जिन्हें अपने पैरो पर खड़ा करने के लिए बाबा का महत्वपूर्ण योगदान खासतर दलित पिछड़ों को जो आरक्षण मिला उसका देन कांग्रेस बीजेपी की नहीं बल्कि भीम राव अंबेडकर की है। बसपा ने हमेशा कानूनी अधिकार दिलाने का प्रयास किया है। कांग्रेस सरकार में मंडल कमीशन रिपोर्ट आयी थी लेकिन कांशीराम के कहने के बाद भी सरकार तैयार नहीं हुई। कमीशन लागू कराने के लिए हमने धरना प्रदर्शन किया। 1989 के चुनाव में यही दबे कुचले लोगों ने कांग्रेस को सत्ता से बाहर किया और अन्य पार्टियों ने मिलकर सरकार बनायी। उस समय बीजेपी का बाहर से समर्थन। हमारे तीन एमपी बने थे लेकिन हम सत्ता में नहीं थे। बीपी सिंह चाहते थे हमारी पार्टी सरकार में शामिल हो लेकिन हमने समर्थन पर दो शर्त रखी। पहली डॉ. अंबेडकर को भारत रत्न और दूसरी शर्त मंडल कमीशन लागू हो।

 

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि धर्म निरपेक्षता को बीजेपी और आरएसएस के लोग पसंद नहीं करते हैं। सपा के साथ आने से हमारा काम आसान हो जाएगा। इस चुनाव में कांग्रेस एवं बीजेपी एंड कंपनी की नीद उड़ी है। वे वर्तमान के साथ भविष्य पर खतरा मान रहे है। यही वजह है कि ये लोग कभी गठबंधन को शराब और कभी महामिलावट बता रहे है। महामिलावटी मोदी है जो पिछड़ों का हक मारने के लिए मोदी ने अपनी सरकार में अपना नाम अपने को पिछड़े वर्ग में शामिल कर लिया है।

 

मायावती ने कहा कि अखिलेश यादव यहां पिछड़े वर्ग से बैठे हैं, अखिलेश मिलावटी नहीं है जन्मजात पिछड़े वर्ग है यह हमारा असली सामजिक परिवर्तन का गठबंधन है। अन्य राज्यों में ऐसा गठबंधन न बने इसे लेकर चिंतित हैं। सामाजिक गठबंधन से पूर्ण बहुमत की सरकार 2007 में बनायी थी। उस सयम बीजेपी की नीद उड़ी कि कहीं यह गठबंधन सत्ता में न आ जाये। इसके बाद इन्होंने अति पिछड़ों में कई संगठन खड़े करा दिये। कांग्रेस में इतनी हिम्मत नहीं कि वह हमारे गठबंधन को तोड़ पाए लेकिन बीजेपी ने कहीं निषाद कही नोनिया कही मौर्या जाति के स्वार्थी लोगों को पकड़कर संगठन अथवा पार्टी बनवा दी। अब जब चुनाव होता है तो फूट डालो राज करो की नियत से जब चुनाव होता है तो कई पार्टियों को पैसा देकर बैठा देते या एक दो सीट दे देते हैं। लेकिन सत्ता में आने के बाद उनके लिए कुछ नहीं करते। अब तो इन्होंने अखिलेश के घर को भी नहीं छोड़ा। शिवपाल को तोड़कर सपा का वोट काटने के लिए प्रत्याशी खड़े कराये । मायावती ने कहा कि यूपी में जितने भी पिछड़ी जाति के संगठन बीजेपी के स्वार्थ में बने है। आपको अपने वोट बांटने नहीं है तो बीजेपी अपने मकसद में कामयाब हो जायेगी ।

 

मायावती ने कहा कि अखिलेश यादव यहां पिछड़े वर्ग से बैठे हैं, अखिलेश मिलावटी नहीं है जन्मजात पिछड़े वर्ग है यह हमारा असली सामजिक परिवर्तन का गठबंधन है। अन्य राज्यों में ऐसा गठबंधन न बने इसे लेकर चिंतित हैं। सामाजिक गठबंधन से पूर्ण बहुमत की सरकार 2007 में बनायी थी। उस सयम बीजेपी की नीद उड़ी कि कहीं यह गठबंधन सत्ता में न आ जाये। इसके बाद इन्होंने अति पिछड़ों में कई संगठन खड़े करा दिये। कांग्रेस में इतनी हिम्मत नहीं कि वह हमारे गठबंधन को तोड़ पाए लेकिन बीजेपी ने कहीं निषाद कही नोनिया कही मौर्या जाति के स्वार्थी लोगों को पकड़कर संगठन अथवा पार्टी बनवा दी। अब जब चुनाव होता है तो फूट डालो राज करो की नियत से जब चुनाव होता है तो कई पार्टियों को पैसा देकर बैठा देते या एक दो सीट दे देते हैं। लेकिन सत्ता में आने के बाद उनके लिए कुछ नहीं करते। अब तो इन्होंने अखिलेश के घर को भी नहीं छोड़ा। शिवपाल को तोड़कर सपा का वोट काटने के लिए प्रत्याशी खड़े कराये । मायावती ने कहा कि यूपी में जितने भी पिछड़ी जाति के संगठन बीजेपी के स्वार्थ में बने है। आपको अपने वोट बांटने नहीं है तो बीजेपी अपने मकसद में कामयाब हो जायेगी ।

 

BY- RANVIJAY SINGH

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned