मतदान के बाद अब वोटों की गणित बैठा हार जीत का आकलन करने में जुटे प्रत्याशी

-अधिक वोटिंग से प्रत्याशी व समर्थकों के लिए हार जीत का आकलन करना हुआ मुश्किल

-जिले में ज्यादातर सीटों पर देखने को मिला है कड़ा संघर्ष, जिला पंचायत में जातिगत आधार पर बटे मतदाता

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में दूसरे चरण का मतदान समाप्त हो चुका है। मतगणना में अभी 12 दिन का समय है। चुनाव में वोटो की हुई बरसात ने प्रत्याशियों की धड़कन बढ़ा दी है। मतदान समाप्त होने के से ही प्रत्याशी और उनके रणनीतिकार वोटों की गुणा गणित बैठा हार जीत का आकलन करने में जुटे है। आंकड़़े यहां तक जुटाए जा रहे हैं कि किस बूथ में कौन प्रत्याशी कितना आगे अथवा पीछे हो सकता है। किस घर में किसे कितना वोट मिला है।

बता दें कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तहत जिले में प्रधान की 1858, क्षेत्र पंचायत सदस्य के 2104, जिला पंचायत सदस्य के 84 तथा ग्राम पंचायत सदस्य के 22820 पदों के लिए मतदान सपन्न हो चुका है। यहां कुल 26,866 पदों के लिए 29,235 प्रत्याशी मैदान में है। 37,20,084 मतदाताओं ने प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला कर दिया है।

मतगणना दो मई को कराई जायेगी लेकिन यह 12 दिन प्रत्याशियों को भारी पड़ रहा है। कारण कि इस बार किसी भी गांव में मतदाताओं ने अपने पत्ते नहीं खोले। आखिरी समय तक यहां तक कि मतदान के बाद भी मतदाता मौन है। मतदाताओं का मौन प्रत्याशियों का संसय बढ़ा रहा है।

प्रत्याशी धांधली को लेकर भी डरे हुए हैं। यही वजह है कि सोमवार को मतदान समाप्त हुआ तो वे मतपेटी जमा कराने पूरे काफिले के साथ स्ट्रांगरूम तक गए। वहां से लौटते ही वे अपने रणनीतिकारों के साथ बूथ वार समीक्षा में जुट गए। बूथ में कितने वोट थे, कितना वोट पोल हुआ और कितना वोट पक्ष में व कितना विरोध में जाने की संभावना है यह जोड़ घटना किया जा रहा है। सबके अपने अपने आकलन हैं और सभी जीत का दावा कर रहे हैं।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned