नागरिक सूचना पट्ट लगाने में 22 लाख का घोटाला

आजमगढ़ के एपीओ सहित 4 के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर

खंड विकास अधिकारी का स्थानान्तरण कर की गयी खानापूर्ति

आजमगढ़. जिले में घोटालों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। साधन सहकारी समिति के बाद अब नागरिक सूचना पट्ट घोटाला सामने आया है। सठियांव ब्लाक में नागरिक सूचना पट्ट लगाए के नाम पर 22 लाख का घोटाला किया गया। सीडीओ आनंद कुमार शुक्ला के निर्देश पर इस ममाले में मुबारकपुर थाने में एपीओ, लेखाकार, कंप्यूटर आपरेटर और भुगतान लेने वाली फर्म के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी गयी है। साथ ही बीडीओ नीलिमा गुप्ता, एपीओ, लेखाकार और कंप्यूटर आपरेटर का हटा दिया गया है। खंड विकास अधिकारी की तैनाती अब पल्हनी ब्लाक में की जा रही है।

बता दें कि सठियांव ब्लाक में मनरेगा के तहत ग्राम पंचायतों में 800 से अधिक परियोजनाओं पर कार्य किया गया। निर्माण पूरा होने पर मौके पर नागरिक सूचना पट्ट लगाया जाना था। एक नागरिक सूचना पट्ट पर साइज के अनुसार एक हजार से लेकर पांच हजार रुपए का भुगतान फर्म को किया जाता है।

पिछले दिनों एक प्रधान ने शिकायत की कि नागरिक सूचना पट्ट लगाने में भारी घोटाला हुआ है। मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्य विकास अधिकारी आनंद कुमार शुक्ला ने मामले की जांच करायी।

जांच में बिना नागरिक सूचना पट्ट लगाए ही कर्मचारियों द्वारा मिलीभगत कर फर्म को 22 लाख रूपये के भुगतान किए जाने का खुलासा हुआ। इस पर बीडीओ नीलिमा गुप्ता ने सोमवार की देर रात में मुबारकपुर थाने पर तहरीर दी। तहरीर में आरोप लगाया कि 16 अक्टूबर को शासन स्तर से योजना के तहत सामग्री अंश से धनराशि पीएफएमएस के माध्यम से पूल्ड खाते में उपलब्ध हुई लेकिन इसमें गड़बड़ी की गई।

बिना कार्य के सत्यापन के भुगतान कर दिया गया। फर्म से अनाधिकृत रूप से बिल बाउचर्स प्राप्त कर लेखाकार, एपीओ, कंप्यूटर आपरेटर ने मिलीभगत कर 22 लाख रुपये फर्म को जारी कर दिए। जांच में पाया गया कि फर्म के यूनियन बैंक आफ इंडिया नसीरूद्दीनपुर के बैंक खाते में लगभग 22 लाख की धनराशि अनियमित रूप से अंतरित कराई गई।

मुबारकपुर थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार मिश्रा ने बताया कि बीडीओ की तहरीर पर मनरेगा कार्यक्रम अधिकारी एपीओ शशिभूषण सिंह, लेखाकार जफर मसूद अब्बासी, कंप्यूटर आपरेटर अब्दुल्लाह महमूद और मेसर्स एंजिल आजीविका स्वयं सहायता समूह संग्रामपुर असोना के खिलाफ धारा 420,409 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

वहीं दूसरी तरफ खंड विकास अधिकारी का भी स्थानान्तरण कर दिया गया है। जिला विकास अधिकारी रविशंकर राय ने बताया कि सठियांव ब्लाक में सीआईबी (नागरिक सूचना पट्ट) लगाए जाने के नाम पर 22 लाख की वित्तीय अनियमितता में एपीओ सहित चार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। सठियांव ब्लाक की बीडीओ नीलिमा गुप्ता को यहां से हटाकर पल्हनी ब्लाक का बीडीओ बना दिया गया है।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned