आजमगढ़ में फिर सांप्रदायिक बवाल, कई थानों की फोर्स तैनात

आजमगढ़ में फिर सांप्रदायिक बवाल, कई थानों की फोर्स तैनात
dispute

सत्ता के मद में चूर लोगों ने मामूली विवाद को दिया संप्रादायिक रंग

आजमगढ़. सत्ता के सामने बेबस पुलिस का जाति विशेष को लोगों संरक्षण देना अब जिले की आवाम पर भारी पड़ने लगा है। होली के दिन फरीदाबाद और 22 अप्रैल को मुबारकपुर में हुए सांप्रदायिक बवाल से भी जिले की पुलिस ने सबक नहीं लिया। परिणाम रहा है गुरूवार को फरीदाबाद में में फिर वबाल हो गया। अच्छा हुआ कि रात का समय था और फोर्स समय से मौके पर पहुंच गयी। परिणाम रहा कि दोनो पक्ष तितर बितर हो गये लेकिन आक्रोश साफ दिख रहा है। स्थानीय लोग आये दिन हो रहे सांप्रदायिक विवाद के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहरा रहे है। 

हुआ यूं की निजामाबाद थाना क्षेत्र के फरीदाबाद तिराहे के पास गुरूवार की रात करीब 9.45 बजे बाइक सवार एक युवक दुर्घटना का शिकार हों गया। तिराहे पर मौजूद परसहा गांव के कुछ युवक सड़क पर गिरे युवक को उठा दिया। यह बात होली के दिन से ही खुन्नस खाये मौके पर मौजूद कुछ यादव जाति के युवकों को नागवार गुजरी और उन्होंने परसहा गांव के युवकों पीट दिया। उक्त युवक यह बात जाकर गांव में बताये। इसके बाद दर्जन भर अल्पसंख्यक युवक गांव के डगरा पर पहुंच गये। तभी वहां दर्जन भर दूसरे पक्ष के लोग भी पहुंच गये और दोनों पक्षों में विवाद हो गया। 

मामला मारपीट तक पहुंच गया और इस बार अल्पसंख्यक समुदाय के लोग भारी पड़ गये। जब यह बात उन्होंने गांव में जाकर बताई तो आसपास के दो तीन गांव के लोग फरीदाबाद बाजार में पहुंच गये। रात करीब दस बजे फरिहा के कुछ युवक सरायमीर में आयोजित क्रिकेट प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए जा रहे थे। बाइक सवार इन युवकों पर फरीदाबाद में उपस्थित लोगों ने पथराव कर दिया। वे किसी तरह जान बचाकर संजरपुर गांव में पहुंचे और ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी। फिर क्या था दूसरे पक्ष से भी सैकड़ों लोग खोदादादपुर मं एकत्र हो गये। बात बढ़ती इससे पहले ही पुलिस मौके पर पहुंच गयी। थानाध्यक्ष निजामाबाद की सूचना पर गंभीरपुर, सरायमीर, फूलपुर, निजामाबाद की फोर्स भी मौके पर आ गयी। फोर्स देख दोनों पक्षों के लोग वहां से खिसक लिये। घटना को लेकर क्षेत्र में भारी तनाव है। 

बता दें कि होली के दिन अल्पसंख्यक समुदाय की महिलाओं को रंग पोतने को लेकर यहां विवाद हुआ था। उस समय कई वाहन तोड़ दिये गये थे। पुलिस द्वारा की गयी एकतरफा कार्रवाई को लेकर आज भी यहां असंतोष है। गुरूवार की घटना ने आग मे घी का काम किया है। स्थानीय लोग जिले में खराब हो रहे सांप्रदायिक माहौल के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहरा रहे है। मौके पर मौजूद सीओ फूलपुर का कहना है दुघर्टना को लेकर हुए विवाद में दो पक्ष भिड़ गये थे लेकिन स्थित नियंत्रण में हैं।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned