भगवा रंग में रंगा मुलायम का आजमगढ़, बीजेपी की परिवरतन रैली में जुटी रिकॉर्डतोड़ भीड़  

भगवा रंग में रंगा मुलायम का आजमगढ़, बीजेपी की परिवरतन रैली में जुटी रिकॉर्डतोड़ भीड़  
bjp rally

आजमगढ़ में रिकार्डतोड़ भीड़ से विपक्षियों की बढ़ी बेचैनी...

आजमगढ़. आजादी के छह दशक के बाद देश में गैर कांग्रेसी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने वाली भाजपा ने गुरूवार को मुलायम के आजमगढ़ में रिकॉर्डतोड़ भीड़ जुटा कर विपक्षियों के पेशानी पर बल ला दिया। शहर ले लेकर गांव तक की सड़‍कें भगवा से पटी नजर आयी। यूपी के इतिहास में ऐसा तीसरी बार हुआ है जब भाजपा भीड़ के जरिये आजमगढ में खुद को साबित करने में सफल रही है।

दो दशक पूर्व अटल विहारी बाजपेयी की जजी मैदान की रैली में जन सैलाब उमड़ा था। जब मैदान ही नहीं सड़के भी छोटी पड़ गयी थी। उस समय लोग भाजपा की रैली में नहीं बल्कि अटल विहारी बाजपेयी को सुनने के लिए आये थे।
इसके बाद वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में पीएम नरेंद्र मोदी भीड़ जुटाने में सफल रहे थे। इसके अलावा भाजपा के बड़े नेता भी कभी पांच से सात हजार की भीड़ नहीं पार कर पाये थे।

इस बार परिवर्तन यात्रा रैली के लिए भाजपा ने आर्इटीआई मैदान चुना तो यह सवाल खड़ा होने लगा था कि ये भीड़ कहां से लायेंगे। खासतौर पर अमित शाह जैसे नेता जो लोकसभा चुनाव के दौरान भी भीड़ नहीं जुटा सके थे। विपक्ष भी यह मान रहा था कि आईटीआई के मैदान में भाजपा की किरकिरी होनी तय है लेकिन गुरूवार को दोपहर 11 बजे के बाद सड़कों पर ऐसा सैलाब उमड़ा कि कुछ ही घंटों में आईटीआई मैदान छोटा पड़ गया।

यहीं नहीं रैली में भाजपा के छोटे नेता से लेकर बड़े नेता तक यह दावा करते रहे कि उनकी भीड़ को प्रशासन मैदान तक पहुंचने नहीं दे रहा है। अगर इनकी बातों में थोडी सी भी सच्‍चाई है भाजपा की इस रैली को ऐतिहासिक कहा जायेगा। भाजपाई इस अप्रत्‍यासित भीड़ से गदगद हैं। वहीं विपक्ष की परेशानी बढ़नी तय हैं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned