आजमगढ़ में दलित किशोरी का अपहरण, आरोपी मां को दे रहे धमकी

पुलिस ने एफआईआर तो दर्ज किया लेकिन किशोरी की बरामदगी और आरोपियों पर कार्रवाई के लिए नहीं उठाया कोई कदम

किशोरी की मां ने एसपी से मुलाकात कर लगाई न्याय की गुहार

एसपी बोले, संज्ञान में है मामला, बरामदगी के प्रयास में जुटी है पुलिस

आजमगढ़. यूपी में महिला अपराध की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। ताजा मामला आजमगढ़ का है। यहां दबंगों ने मंगलवार की रात एक दलित किशोरी को उसके परिवार के सामने ही अगवा कर लिया। मां ने विरोध किया तो उसके साथ मारपीट की। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने ममाला तो पंजीकृत कर लिया लेकिन आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। आरोपी व उनके परिवार के लोग पीड़ित परिवार को तरह-तरह से धमकी देनी शुरू कर दिये है। किशोरी की मांग ने बुधवार को एसपी से मुलाकात कर न्याय की गुहार लगाई है।


मेंहनगर थाना क्षेत्र के पंदहा गांव निवासी गीता का आरोप है कि वह अपने पति व बेटी के साथ जहानागंज थाना क्षेत्र के परसूपुर गांव में रहती है। मंगलवार की रात करीब 9 बजे राजेन्द्र बनवासी, उदय प्रताप उर्फ कल्लू, सतेष राम, योगी, गोविन्द घर पहुंचे और नाबालिग पुत्री को उठाकर ले जाने लगे। किशोरी की मां ने विरोध किया तो आरोपियों ने उसे मारे पीटे और धमकी दी। परिजनों ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई और किशोरी को सकुशल बरामद करने की मांग की है।


पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह ने बताया कि परिजनों की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर किशोरी को बरामद करने का निर्देश दिया गया था। प्राथमिकी दर्ज हो गयी है किशोरी की बरामदगी का प्रयास किया जा रहा है।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned