जेल में मोबाइल मिलने को शासन ने लिया संज्ञान, डीआईजी जेल करेंगे जांच

सचिन के पास से बरामद हो चुकी है मोबाइल, सिधारी थाने में दर्ज हुआ है एफआईआर

By: Akhilesh Tripathi

Published: 15 Nov 2018, 08:11 PM IST

आजमगढ़. दीपावली पर जिला कारागार में बंदियों के त्योहार मनाने का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। मामले को एडीजी लखनऊ चंद्रप्रकाश गंभीरत से लेते हुए डीआईजी गोरखपुर रेंज एके सिंह को पूरे मामले की विस्तृत जांच कर 10 दिन के अंदर रिपोर्ट मांगी है। अब डीआईजी अपने स्तर से जेल के अंदर मोबाइल कैसे गई जांच शुरू कर दिये हैं।


बता दें कि जो फोटो वायरल हुई थी उसमें शातिर अपराधी सचिन पांडेय अपने साथियों के साथ दीवाली का जश्न मनाते दिखा था। फोटो वायरल होने के बाद जेल प्रशासन से लेकर जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया था। इस पर दूसरे ही दिन जेल प्रशासन ने बैरकों में बंदियों की सघन चेकिंग की गयी लेकिन सफलता नहीं मिली।

फोटो वायरल होने के बाद से ही बंदियों की लगातार चेकिंग जारी रही। इस बीच सोमवार को तलाशी के दौरान कुख्यात बंदी सचिन पांडेय के पास से एक मोबाइल बरामद की गई। जेल अधीक्षक अनिल गौतम ने बताया कि अतरौलिया थाने के अचलीपुर गांव निवासी सचिन पांडेय उर्फ आकृति पांडेय पुत्र रामदयाल पांडेय अगस्त माह में हत्या, जानलेवा हमले के आरोप में मंडलीय कारागार में निरूद्ध है। चेकिंग के दौरान उसके पास से मोबाइल फोन बरामद होने पर मंगलवार को सिधारी थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

दूसरी तरफ जेल के अंदर दीवाली मना कर मोबाइल पर फोटो वायरल होने के बाद भी जेल मुख्यालय लखनऊ तक भनक तक नहीं लगने दी गई। इस पर एडीजी लखनऊ चंद्रप्रकाश ने डीआईजी गोरखपुर रेंज एके सिंह को पूरे मामले की विस्तृत जांच कर 10 दिन के अंदर रिपोर्ट मांगी है। अब डीआईजी अपने स्तर से जेल के अंदर मोबाइल कैसे गई, इस बिंदु पर जांच पड़ताल करेंगे। इसमें जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई होना तय माना जा रहा है।


जेल अधीक्षक अनिल गौतम ने बताया कि दीवाली पर मैं दो दिन के लिए छुट्टी पर चला गया था। इस बीच जेल के अंदर मोबाइल से कुख्यात बंदी सचिन पांडेय ने दीवाली मनाते फोटो वायरल कर दिया। जांच में उसके पास से सोमवार को एक मोबाइल पाए जाने पर रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। एडीजी ने भी जांच का निर्देश दिया है।

 

BY- RANVIJAY SINGH

Show More
Akhilesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned