हिंसा के खिलाफ चिकित्‍सकों की हड़ताल, मरीज हुए हलकान

हिंसा के खिलाफ चिकित्‍सकों की हड़ताल, मरीज हुए हलकान
Doctors strike

चिकित्सकों, अस्पतालों पर हमले पर अंकुश के लिए बने कड़ा कानून

आजमगढ़. चिकित्‍सक और अस्‍पतालों में आये दिन हो रहे हमले से नारज इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के चिकित्‍सकों ने मंगलवार को ओपीड़ी बंद कर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान चिकित्‍सकों ने मिशन काॅलेज आफ पैरामेडिकल साइंसेंज परिसर में धरना दिया। चिकित्‍सकों के खिलाफ हो रही हिंसा पर चिंता जताते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की गई।





चिकित्‍सकों की हड़ताल के चलते दूर दराज के क्षेत्रों से आये मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। चिकित्सकों के न मिलने से बहुत से मरीज बिना दवा के ही बैरंग लौटे। सब मिलाकर अस्‍पतालों के बाहर अफरा तफरी की स्थित रही। वहीं मिशन परिसर में आयोजित धरने को संबोधित करते हुए आईएमए आजमगढ़ इकाई की अध्यक्ष डाॅ. स्वास्ति सिंह ने कहा कि हम लोग सात सूत्रीय मांगों को लेकर आईएमए के आह्वान पर यह धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। हमारी मांगों को सरकार ने आज तक अनदेखा किया है। हमारी मांग है कि केंद्रीय स्तर से चिकित्सकों और चिकित्सा संस्थानों पर हिंसा और उपद्रव के खिलाफ कड़ा कानून बने ताकि चिकित्सक खुद को सुरक्षित महसूस कर सकें। इसके अलावा मेडिकल छात्रों पर नेशनल इक्जिट टेस्ट को खारिज किया जाए।



READ MORE- yogi-adityanath-district-gorakhpur-fail-in-disposing-public-grievances-news-in-hindi-1595168/" target="_blank">लोक शिकायतों के निस्तारण में सीएम योगी का जिला फेल



सचिव अर्चना मैसी ने कहा कि चिकित्सकों और प्रतिष्ठानों का रजिस्ट्रेशन एकल विंडो से किया जाना चाहिए। एलोपैथिक दवाओं का पर्चा लिखने का अधिकार सिर्फ एलोपैथिक चिकित्सकों, एमबीबीएस और बीडीएस को दिया जाए। उन्होंने झोला छाप चिकित्सकों पर प्रतिबंध लगाने के साथ ही हेल्थ सेक्टर का बजट एक प्रतिशत से बढ़ा 2.5 प्रतिशत करने की मांग की। अन्य डाक्टरों ने क्लीनिकल इस्टीब्लीशमेंट एक्ट फार्म भरने में गलती पर सजा का प्रावधान समाप्त करने पर जोर दिया। इस मौके पर डाॅ. आरडी सिंह, डाॅ. जावेद, डाॅ. फुरकान, डाॅ. आरबी त्रिपाठी, डाॅ. अब्दुल्ला, डाॅ. अमित सिंह, डाॅ. बीएन अग्रवाल आदि उपस्थित थे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned