मेड़ के विवाद में दो पक्ष भिड़े, अंधाधुंध फायरिंग में सात घायल

भूमि विवाद में मनबढ़ों ने दिया घटना का अंजाम

सिधारी थाना क्षेत्र के राउत मऊ गांव की घटना

पुलिस की लापरवाही से हुई इतनी बड़ी वारदात, पूर्व में की गयी शिकायत को नहीं लिया था संज्ञान

आजमगढ़। पुलिस की लापरवाही से जिले में खूनी खेल का सिलसिला जारी है। पीड़ित द्वारा पूर्व में की गयी शिकायत को पुलिस ने संज्ञान लिया और शुक्रवार को मेड़ के विवाद में दो पक्ष आमने सामने हो गए। इस दौरान एक पक्ष द्वारा की गयी अंधाधुंध फायरिंग में सात लोग घायल हो गए। सभी घायलों को जिला अस्पातल भेजा गया है।
सिधारी थाना क्षेत्र के राउतमऊ गांव निवासी घरभरन पुत्र गग्गन यादव व जितेंद्र पुत्र नवाजादी सिंह का खेत आस पास है। दोनों के बीच जमीनी विवाद चल रहा है। जिले लेकर कई बार दोनों पक्ष आमने सामने हो चुके हैं।
रविवार को अपराह्न करीब चार बजे जितेंद्र सिंह खेत की जोताई करा रहे थे जिसका विरोध घरभरन के परिजनों ने किया। मेड़ की छटाई को लेकर विवाद बढ़ गया।
तभी एक पक्ष के लोगों ने लाइसेंसी बंदूक से फायरिंग शुरू कर दी। कई राउंड हुई फायरिंग में घरभरन 60 पुत्र गग्गन, सीमा 26 पुत्री घरभरन, अरुण 18 पुत्र घरभरन, आशीष 24, सोनम 12, मोना 8, रेनू 25 गोली के छर्रे लगने से घायल हो गयी।
फायरिंग से गांव में अफरातफरी मच गयी। स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को एम्बुलेंस से जिला अस्पताल भेजा गया। वहीं घटना की जानकारी होने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन कर लौट गयी। कारण कि आरोपी घर छोड़कर फरार हो गए था। सभी घायलों का उपचार जिला अस्पताल में चल रहा है।
तनाव को देखते हुए गांव में भारी फोर्स तैनात कर दी गयी है। घायल अरूण यादव का कहना है कि विरोधी खेत की मेड़ काट रहे थे। विरोध करने पर मारने पीटने लगे। मारपीट के दौरान ही अरोपियों ने फायरिंग कर दी। गोली का छर्रा लगने से सात लोग घायल हो गए। पीड़ित परिवार के मुताबिक उन्होंने कई बार पुलिस को प्रार्थना पत्र दिया अभी तीन दिन पहले भी थाने में शिकायत की थी लेकिन पुलिस ने दबाव में कोई कार्रवाई नहीं की।

BY Ran vijay singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned