चुनाव बाद पहला तहसील दिवस फेल, 105 में सिर्फ 4 मामलों का निस्तारण

चुनाव बाद पहला तहसील दिवस फेल, 105 में सिर्फ 4 मामलों का निस्तारण
चुनाव बाद पहला तहसील दिवस फेल, 105 में सिर्फ 4 मामलों का निस्तारण

Ashish Kumar Shukla | Updated: 04 Jun 2019, 06:05:06 PM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

मेंहनगर में मौजूद रहे डीएम और एसपी

आजमगढ़. लोकसभा चुनाव में बाद आयोजित पहला तहसील दिवस मात्र औपचारिकता ही नजर आया। खुद जिलाधिकारी शिवाकान्त द्विवेदी व पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह मेंहनगर में मौजूद रहे। उन्होंने लोगों की बातें भी सुनी लेकिन जब बारी आयी समस्या निस्तारण की तो सिर्फ चार मामलों का ही निस्तारण हो पाया। जबकि यहां 101 फरियादियों ने प्रार्थना पत्र दिया था। बाकी के 104 ममाले संबंधित विभाग को सौंप दिये गए।

विभागवार देखे तो सर्वाधिक 55 मामले राजस्व के थे। इसके अलावा पुलिस के 35, विकास के 10, विद्युत के 02, आपूर्ति के 03 मामले तहसील दिवस में पहुंचे थे। जिलाधिकारी शिवाकान्त द्विवेदी ने कहा कि यदि समस्याओं का निस्तारण प्रारम्भिक स्तर पर ही कर दिया जाए तो जनता को मुख्यालय तक नही जाना पड़ेगा। इसलिए अधिकारीगण प्राथमिकता के आधार पर प्रारम्भिक स्तर पर ही जन समस्या का वास्तविक निस्तारण कर दें। उन्होने समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस में प्राप्त हुए मामलों का समय से निस्तारण करना सुनिश्चित करें, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही/शिथिलता क्षम्य नही होगी।

पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने पुलिस के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि समस्याआें के निस्तारण करने में किसी प्रकार की लापरवाही न करें, इसे उच्च प्राथमिकता के आधार पर समस्याओं का निस्तारण करना सुनिश्चित करें।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned