बिजली विभाग के दाव-पेंच में उलझा पूर्व सीएम का गांव, पेड़ में तार बांध हो रही विद्युत आपूर्ति

एक माह में एक पोल नहीं गड़वा पाया विभाग

By: Neeraj Patel

Updated: 29 Jun 2020, 03:15 PM IST

आजमगढ़. फूलपुर तहसील क्षेत्र का आंधीपुर गांव जहां के राम नरेश यादव करीब डेढ़ साल यूपी के सीएम रहे फिर सालों तक मध्य प्रदेश के राज्यपाल लेकिन उनके गांव में बिजली का तार ताड़ के पेड़ से बांधकर आपूर्ति की जा रही है। बिजली विभाग ने इस गांव के लोगों को ऐसे कानूनी दाव पेंच में उलझा दिया है कि लोग खतरे के बीच जीने को मजबूर हैं। वीआईपी गांव का यह हाल है तो अन्य गांवों की व्यवस्था क्या होगी सजह ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री के गांव में कई पोल जर्जर हो गए है। गांव में कहीं कहीं तार भी जर्जर है। यही वजह है कि एक मई 2020 को आई आंधी पोल टूट गया। टूटे पोल को बदलने के लिए ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों को प्रार्थना पत्र दिया। पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्र अजय नरेश ने भी पहल की लेकिन पोल नहीं लगाया गया। ग्रामीणों ने विद्युत आपूर्ति का दबाव बनाया तो टूटे पोल से तार खोलकर तार के पेड़ में रस्सी के सहारे बांधकर आपूर्ति बहाल कर दी गई। नीचे से रास्ता है। बरसात के मौसम अक्सर तेज हवा चल रही है। कभी भी यहां बड़ी दुर्घटना हो सकती है।

गांव के अरविद यादव, विनोद यादव, अंबिका यादव, रविद्र यादव, बेचू राजभर, राममूरत, बृजेश यादव आदि के मुताबिक जब भी वे जेई निखिल शेखर के पास जाते हैं तो वे कहते है। बस दो दिन में लग जाएगा लेकिन आज तक पोल नहीं लगा। अधिशासी अभियंता फूलपुर शिवाजी सिंह का कहना है कि पोल लगवाना हमारे हाथ में नहीं है। विभाग के पास बजट और मैन पावर की कमी है। हल्का लेखपाल द्वारा रिपोर्ट एसडीएम के माध्यम से आएगी। इसके बाद बजट पास होगा। इसके बाद ही पोल लगाया जा सकेगा। तब तक उसी तरह से आपूर्ति की जाएगी। इसमें हम किसी तरह की मदद नहीं कर सकते।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned