यूपी के आजमगढ़ में दूषित पानी पीने से चार की मौत, सैकड़ो बीमार

यूपी के आजमगढ़ में दूषित पानी पीने से चार की मौत, सैकड़ो बीमार
water

मजदूरों में हड़कंप, काम छोड़ भागे

आजमगढ़. लालगंज तहसील क्षेत्र के नाऊपुर गांव में बन रहे राजकीय इंजीनियरिंग कालेज परिसर में दूषित पेयजल पीने से चार लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों मजदूर बीमार हो गए। इस घटना से निर्माणाधीन कालेज परिसर में काम करने वाले मजदूरों में हड़कंप मच गया। पिछले चैबीस घंटों से परदेशी मजदूरों का पलायन जारी है। चार लोगों की मौत के बाद स्वास्थ्य महकमा सक्रिय हुआ और सोमवार को बीमार मजदूरों की सुधि ली गई। गंभीर रूप से बीमार तीन मजदूरों को लालगंज सीएचसी में भर्ती कराय गया है।



लालगंज क्षेत्र के नाऊपुर गांव में बन रहे राजकीय इंजीनियरिंग कालेज का शिक्षा सत्र जुलाई माह से चालू किया जाना था। परिसर में निर्माण कार्य अपूर्ण होने पर कार्य कराने की जिम्मेदारी निर्माण निगम की जनपदीय यूनिट को दी गई। परिसर में पानी के लिए कराई गई बोरिंग की संख्या चार बताई गई लेकिन उनमें से निकल रहे दूषित पानी पर ही मजदूरों को निर्भर होना पड़ा। इधर, कालेज को शुरु कराने के लिए कार्यदायी संस्था द्वारा ठेकेदारों व मजदूरों की संख्या बढ़ा दी गई जो बढ़कर लगभग एक हजार से ऊपर हो गई। इधर, दो-तीन दिनों से दूषित पेयजल के सेवन से मजदूरों की हालत बिगड़ने लगी। 




पहले तो बीमार मजदूरों ने झाड़-फूंक का सहारा लिया और जब हालत गंभीर होने लगी तो मजदूरों में हड़कंप मच गया। रविवार को 18 वर्षीय संतराम पुत्र रामचंदर पता अज्ञात तथा छत्तीसगढ़ प्रांत निवासी प्रमिला (16) पुत्री बुद्धसेन की मौत हो गई। दो लोगों की मौत के बाद बीमार मजदूरों में पलायन शुरू हो गया। सोमवार को दिन में सोनभद्र जिले के दुद्धी थाना क्षेत्र निवासी धर्मेंद्र की पुत्री रूपा (7) एवं छत्तीसगढ़ प्रांत निवासी शंकर के पुत्र नीलू (10) ने दम तोड़ दिया। इसके बाद तो कालेज परिसर में कार्यरत मजदूर भाग खड़े हुए। 

water





दूषित जल से चार मौतों की खबर के बाद स्वास्थ्य महकमा जागा और लालगंज सीएचसी पर तैनात चिकित्सक डा. एसके सिंह व डा. सतीश चंद्रा टीम के साथ मौके पर पहुंचे और बीमार मजदूरों में दवा वितरित किया। मजदूरों का पलायन रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा परिसर में चूना व ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव भी किया गया लेकिन पलायन जारी रहा। गंभीर रूप से बीमार मध्य प्रदेश के रीवां जनपद निवासी सूर्यमणि (20) पुत्र गजरूप, पश्चिम बंगाल के माल्दा निवासी मु. सलीम (22) एवं रुखसाना (24) पत्नी मुख्तार को स्थानीय सीएचसी पर भर्ती कराया गया है। 





इस संबंध में मौके पर मौजूद डा. एसके सिंह ने बताया कि दूषित जल पीने से मजदूरों को उल्टी व दस्त की शिकायत शुरू हुई। अशिक्षा के कारण मजदूरों ने इलाज की जगह झाड़-फूंक का सहारा लिया जिससे मृतकों की संख्या बढ़ी। फिलहाल निर्माणाधीन कालेज परिसर में काम करने वाले मजदूर व ठेकेदार सभी मौके से जा चुके हैं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned