हैवानियत: पहले ट्रैक्टर से छात्रा को रौदा फिर बोरी से बांध नदी में फेंक दी लाश

चालक की निशानदेही पर पुलिस ने घाघरा नदी से बरामद किया शव

महराजगंज थाना क्षेत्र के देवारा कदीम गांव के पास हुई घटना

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. महराजगंज थाना क्षेत्र के देवारा कदीम गांव के पास गुरुवार की दोपहर चालक की लापरवाही से ट्रैक्टर-ट्राली की चपेट में आने से छात्रा की मौत हो गई। दुर्घटना के बाद पुलिस से बचने के लिए चालक ने बालू भरी बोरी में शव को बांधकर घाघरा नदी में फेंक दिया लेकिन चालक पुलिस से बच नहीं पाया। पुलिस ने दबाव बनाया तो उसने सारा राज खोल दिया। उसकी निशानदेही पर पुलिश ने घाघरा नदी से शव को बरामद कर लिया। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

महराजगंज थाना क्षेत्र के देवारा जदीद जंगली का पूरा गांव निवासी 12 वर्षीय कुमकुम पुत्री श्याम कुमार प्राथमिक विद्यालय देवारा कदीम में कक्षा पांचं की छात्रा थी। गुरुवार को स्कूल के शिक्षक ने सूचना दिया कि आज विद्यालय में बच्चों में जूता वितरित होगा।

इसके बाद कुमकुम दोपहर करीब 12 बजे घर से साइकिल से जूता लेने स्कूल जा रही थी। अभी वह देवारा कदीम गांव के पास ही पहुंची थी कि ट्रैक्टर-ट्राली की चपेट में आने से कुमकुम की मौत हो गई। दुर्घटना के बाद ट्रैक्टर चालक ने अपने मालिक को घटना की जानकारी दी।

ट्रैक्टर मालिक नहीं चाहता था कि वह किसी तरह के कानूनी लफड़े में फंसे इसलिए उसने लाश को ठिकाने लगाने को कहा। फिर क्या था चालक ने बालू भरी बोरी में शव को बांधकर मलहटोलवा गांव स्थित घाघरा नदी में फेंक दिए।

जब छात्रा शाम को स्कूल से घर नहीं लौटी तो परिजन परेशान होकर उसकी तलाश शुरू किये। उन्हें कुमकुम की साइकिल घटनास्थल पर पड़ी मिली। मौके पर खून देख उन्हें अनहोनी की आशंका हुई तो उन्होंने पुलिस को घटना की जानकारी दी।

पुलिस ने जांच की तो पता चला कि कुमकुम की ट्रैक्टर-ट्राली से कुचलकर मौत हो गयी थी। इसके बाद पुलिस ने ट्रैक्टर चालक को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की तो उसने सबकुछ पुलिस को बता दिया। इसके बाद पुलिस ने शव को नदी से बरामद कर लिया।

इसके बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। परिजनों का आरोप है कि पुलिस जानबूझकर आरोपियों को बचा रही है। वहीं ग्रामीणों का कहना है कि आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाए पुलिस उन्हें बचाने का प्रयास कर रही है। जहां से शव बरामद हुआ वह उनके गांव से दो-तीन किमी दूर है। आरोपित ट्रैक्टर चालक व मालिक गांव के ही रहने वाले हैं।

महराजगंज थानाध्यक्ष गजानंद चैबे का कहना है कि दुर्घटना में छात्रा की मौत हो जाने के बाद ट्रैक्टर मालिक व स्वजनों ने आपस में समझौता कर लिया था। जानकारी हुई तो पुलिस ने नदी से शव निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

BY Ran vijay singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned