आजमगढ़ में बनना चाहिए विश्वविद्यालय: रामनरेश

आजमगढ़ में बनना चाहिए विश्वविद्यालय: रामनरेश
University

जिले के लोगों ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

आजमगढ़। मध्य प्रदेश के राज्यपाल रामनरेश यादव ने भी आजमगढ़ जनपद में विश्वविद्यालय का समर्थन किया। शुक्रवार की देर रात जब जिले के लोगों का एक प्रतिनिधिमंडल सर्किट हाउस पहुंचकर उन्हें ज्ञापन सौंपा और इस मुद्दे पर वार्ता की तो राज्यपाल ने कहा कि मेरी दिली इच्छा है आजमगढ़ में विश्वविद्यालय बने। मंडल मुख्यालय पर विश्वविद्यालय होना चाहिए। इस दौरान उन्हें विश्वविद्यालय के लिए चयनित की गयी 10 भूमि के बारे में भी बताया गया जिस पर उन्होंने सरकार से मांग की कि विश्वविद्यालय बनवाया जाय। बता दें कि जिले में विश्वविद्यालय की मांग वर्ष 1977 में तब उठी थी जब रामनरेश यादव उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री थे लेकिन राजनीतिक कारणों से विश्वविद्यालय का निर्माण नहीं हो सका और उनकी सरकार भी लम्बे समय तक नहीं रही। इसके बाद 1986 में जब पूर्वांचल विश्वविद्यालय बनाया गया तो भी आजमगढ़ में अभियान चलाया गया था। 1994 में आजमगढ़ मंडल घोषित हुआ और 2003 में जब मुलायम सिंह यादव दूसरी बार सूबे के मुख्यमंत्री बने तब भी जिले के लोगों ने विश्वविद्यालय की मांग उठायी थी लेकिन सरकारों ने इस पर ध्यान नहीं दिया। 25 जनवरी 2015 को जनपद के प्रबुद्धवर्ग द्वारा विश्वविद्यालय अभियान शुरू किया गया जो अनवरत जारी है। वर्ष 2012 के विधानसभा व 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी यह मांग उठायी गयी थी। करीब 25 हजार लोगों ने सरकार को पोस्टकार्ड भेजा। 18 सितम्बर 2015 को 10 जगह भूमि चयनित कर अभिलेख जिलाधिकारी को सौंपा गया लेकिन प्रदेश सरकार के बजट में लोगों को निराशा मिली। विश्वविद्यालय बलिया को दे दिया गया लेकिन आज भी यह अभियान जारी है। शबाना के बाद राज्यपाल रामनरेश यादव का साथ मिलने से लोग उत्साहित भी दिख रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned