हाथरस गैंगरेपः सड़क पर उतरे कांग्रेसी, एसपी कार्यालय पर किया जमकर हंगामा

एसपी कार्यालय गेट से कांग्रेसियों को हटाने के लिए पुलिस को करनी पड़ी भारी मशक्कत

आरोपियों के साथ ही दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग पर अड़े कार्यकर्ता

आजमगढ़. हाथरस दलित युवती के साथ गैंगरेप व उसके साथ की गयी दरिदंगी का मामला तूल पकड़ चुका है। कांग्रेसियों ने बुधवार को हैवानियत करने वाले आरोपियों व पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर एसपी कार्यालय का घेराव कर शासन प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान पुलिस और कांग्रेसियों में जमकर धक्कामुक्की हुई। कांग्रेसी मौके पर ही धरने पर बैठ गए।

 

सैकड़ों की संख्या में बुधवार की पूर्वाह्न जिला कार्यालय से जुलूस निकालकर एसपी कार्यालय पहुंचे। जुलूस में शामिल कार्यकर्ताओं ने योगी सरकार और पुलिस पर लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया। कांग्रेसी एसपी कार्यालय परिसर में घुसने का प्रयास किये तो पुलिस ने उन्हें गेट पर ही रोक लिया। फिर क्या था कांग्रेसी गेट पर ही धरने पर बैठ गए जिससे रास्ता जाम हो गया।

 

सीओ सिटी ने लोगों को समझाने का प्रयास किया लेकिन कांग्रेसी एसपी से मिलने की जिद पर अड़े रहे। पुलिस ने दो लोगों को एसपी से मिलने की इजाजत दी लेकिन कांग्रेसी नहीं माने। घंटों विवाद के बाद कांग्रेस के लोग सीओ सिटी को ज्ञापन सौंप लौट गए।

 

जिलाध्यक्ष प्रवीण कुमार सिंह ने कहा कि हाथरस गैंगरेप के मामले में पुलिस की भूमिका संदिग्ध है। जिस तरह दंबगों उसकी जुबान काटी और पीड़िता की मौत के बाद उसके शव को पुलिस ने जलाया यह कानून और लोकतंत्र की हत्या है। इस मामले में आरोपियों के साथ ही पुलिस के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने इस सरकार में दलित और पिछड़ों को निशाना बनाया जा रहा है। दबंगों को सरकार का संरक्षण प्राप्त है। कांग्रेस इस मामले में चुप नहीं बैठेगी। पार्टी पीड़ित को न्याय दिलाने की लड़ाई लड़ेगी।

BY Ran vijay singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned