परिंदा नहीं मार सकेगा पर, मतगणना स्थल पर बीएसएफ, सीआरपीएफ व पुलिस होगी तैनात

परिंदा नहीं मार सकेगा पर, मतगणना स्थल पर बीएसएफ, सीआरपीएफ व पुलिस होगी तैनात
परिंदा नहीं मार सकेगा पर, मतगणना स्थल पर बीएसएफ, सीआरपीएफ व पुलिस होगी तैनात

Ashish Kumar Shukla | Publish: May, 22 2019 08:19:48 PM (IST) Azamgarh, Azamgarh, Uttar Pradesh, India

वहीं मतगणना स्थल से लेकर बाहरी हिस्से की सुरक्षा की जिम्मेदारी सिविल पुलिस के साथ ही पीएसी के हवाले रहेगा

आजमगढ़. जिले की आजमगढ़ व लालगंज सुरक्षित लोकसभा चुनाव की मतगणना इस बार त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे में की जाएगी। मतगणना स्थल की निगरानी के लिए अंदर व बाहर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। सीसीटीवी कैमरे से काउंटिग से लेकर एजेटों तक के हर गतिविधियों पर पुलिस की नजर रहेगी। सुरक्षा के ²ष्टि से स्ट्रांग रूप मतगणना हाल की कमान सीआरपीएफ के हवाले होगी। वहीं मतगणना स्थल से लेकर बाहरी हिस्से की सुरक्षा की जिम्मेदारी सिविल पुलिस के साथ ही पीएसी के हवाले रहेगा।

पुलिस अधीक्षक प्रो. त्रिवेणी सिंह ने बताया कि आजमगढ़ लोकसभा की मतगणना बेलइसा व लालगंज लोकसभा की मतगणना चकवल एफसीआई गोदाम में होगी। दोनों मतगणना स्थलों की सुरक्षा त्रिस्तरीय की गयी है। बगैर जांच के पड़ताल के कोई भी व्यक्ति मतगणना स्थल पर नहीं जा पाएगा। मतगणना स्थल की बाहरी सुरक्षा के लिए सिविल पुलिस के साथ ही पीएसी के जवान लगाए गए हैं। वहीं अंदर की सुरक्षा के लिए बीएसएफ, सीआरपीएफ के साथ ही सिविल पुलिस व पीएसी के जवानों की ड्यूटी लगायी गयी है। लोगों की निगरानी के लिए जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। सुरक्षा के लिए दोनों मतगणना स्थलों पर एक कंपनी बीएसएफ, एक कंपनी, सीआरपीएफ, एक कंपनी, एक कंपनी पीएसी के अलावा 600 सशस्त्र आरक्षी, 200 हेड कांस्टेबिल, 60 सब इंस्पेक्टर, आठ इंस्पेक्टर, 16 थानाध्यक्ष को लगाया गया है। इसी के साथ ही सभी थाने में दो-दो स्ट्राइक टीम बनाए गए हैं। जो जरूरत पड़ने पर पांच मिनट में उक्त स्थान पर पहुंच जाएंगी। जिले में धारा 144 लगा है, कहीं भी पांच से अधिक व्यक्ति समूह बनाकर खड़े मिलेंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसी के साथ ही आउटर कार्डन इडन कार्डन पर भी फोर्स रहेगा।

मतगणना स्थलों की सुरक्षा के अलावा कुछ फोर्स को रिजर्व में भी रखा गया है। कहीं कोई मारपीट, बवाल व उपद्रव की सूचना मिलेगी तो उक्त स्थान पर फोर्स भेजकर तत्काल कार्रवाई करायी जाएगी। इसी के साथ ही मोबाइल टीम भी बनायी गयी है। जो मतगणना स्थल से लेकर जिले में भ्रमण कर स्थिति पर नजर रखेगी।

मतगणना स्थलों की सुरक्षा व भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्रत्येक मतगणना स्थलों पर चार-चार बैरियर लगए गए हैं। सभी बैरियरों पर डोर मेटल डिक्टेक्टर रहेंगे। बैरियर पर सघन तलाशी के बाद ही किसी को अंदर जाने की इजाजत होगी। इसी के साथ ही डाग स्क्वायड टीम के साथ ही अग्निशमन विभाग की भी गाड़ियां मौजूद रहेगी।

मतगणना से एक दिन पूर्व एसपी ने पुलिस अधिकारियों के साथ पुलिस लाइन परिसर में फोर्स की ब्रीफिग की। ब्रीफिग के दौरान उन्होंने निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देश के बारे में बताया कि सुरक्षा बलों को कहां रहना होगा और उन्हें क्या करना होगा। इस प्रकार से मतगणना स्थलों पर लगाए गए पुलिस फोर्स को सुरक्षा संबंधित जानकारियों से भी अवगत कराया। उन्होंने साफ शब्दों में सुरक्षा बलों को हिदायत दिया कि उन्हे जो ड्यूटी सौपी गयी है उसका वे पालन करेंगे। अगर कोई भी ड्यूटी से अनुपस्थित मिलेगा या सुरक्षा के प्रति लापरवाही बरतेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। ब्रीफिग के दौरान बीएसएफ व सीआरपीएफ के अधिकारी के साथ एसपी ग्रामीण एनपी सिंह, एसपी सिटी कमलेश बहादुर, एसपी ट्रैफिक मोहम्मद तारिक के अलावा सभी सीओ भी मौजूद रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned