अलीगढ़ विश्वविद्यालय में जिन्ना की तस्वीर लगाने का हिन्दू संगठनों ने किया विरोध, फूंका पुतला

अलीगढ़ विश्वविद्यालय में जिन्ना की तस्वीर लगाने का हिन्दू संगठनों ने किया विरोध, फूंका पुतला
कलेक्ट्रेट चौराहे पर अलीगढ़ विश्वविद्यालय कुलपति का पुतला फूंकते हिन्दू संगठनों के लोग

Devesh Singh | Publish: May, 03 2018 08:50:50 PM (IST) Azamgarh, Uttar Pradesh, India

कलेक्ट्रेट चौराहे पर कुलपति का पुतला फूंक किया प्रदर्शन, कहा : दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो किया जायेगा आंदोलन

रिपोर्ट-रणविजय सिंह

आजमगढ़. अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रसंघ भवन में देश को खंडित करने वाले मो. अली जिन्ना की तस्वीर लगाये जाने का हिन्दू संगठनों ने विरोध किया। गुरुवार को हिन्दू युवा वाहिनी के पूर्व अध्यक्ष व संयोजक हरिवंश मिश्रा के नेतृत्व में हिन्दू संगठनों ने कलेक्ट्रेट चौराहे पर अलीगढ़ विवि के कुलपति का पुतला फूंक कर कार्रवाई किये जाने की मांग किया। हिन्दू संगठनों ने कहा कि विवि में देशद्रोही की तस्वीर लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गयी तो हम आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।
श्री मिश्रा ने कहा कि देश में जहां महापुरूषों की पूजा होनी चाहिए वहां देश को बांटने वाले जिन्ना की पूजा हो रही है, यह दुर्भाग्यपूर्ण है। विवि में कुछ लोगों द्वारा भारत के खंडित करने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन वह कभी भी अपने नापाक मंसूबों में कामयाब नहीं होंगे। भारत की एकता अखंडता न कभी भंग हुई है और न कभी होगी। विवि के छात्रसंघ भवन में लगी जिन्ना की तस्वीर का जब वहां के हिन्दू संगठनों ने विरोध किया तो उनके साथ एक वर्ग के लोगों ने मारपीट किया। इसमें कई अधिकारी और निर्दोष लोग घायल हो गये। उन्होने कहा कि देश की आजादी के लिए भारत के कई वीर सपूतों ने हंसते-हंसते अपने प्राणों की आहूती दे दी लेकिन भारत माता के शीश को झुकनें नहीं दिया। जब देश को आजादी मिल गई तो यही जिन्ना ने अपने स्वार्थ के लिए देश को दो भागों में विभाजन का कुचक्र रचा।। जो लोग भारत में रहकर इसकी पूजा करते हैं वह देशद्रोही हैं। उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। हमारे देश में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, सरदार भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद, सुबाष चंद बोष, वीर अब्दुल हमीद, असफाक उल्लाह खां व डा. एपीजे अब्दुल कलाम जैसे महापुरूषों की पूजा होनी चाहिए न कि किसी देशद्रोही की। उन्होंने शासन-प्रशासन से मांग किया कि विश्वविद्यालय में देशद्रोही की तस्वीर लगाने वाले दोषियों के खिलाफ कार्रवाई और कुलपति को जल्द से जल्द बर्खास्त किया जाय। इस अवसर पर किसान नेता अरविन्द राय, विहिप के जिला प्रभारी हलधर दुबे, छात्र नेता सत्यम चौबे, रामसकल चौहान, आदित्य राय, रूपेश, विकास, अभिषेक पाण्डेय, श्यातप्रीत राम, विपिन ओझा, प्रकाश सहित आदि मौजूद रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned