छठ के पहले ही बना था हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह की हत्या का प्लान, मऊ से चोरी की गयी थी बाइक

हत्या में प्रयुक्त बाइक के मालिक तक पहुंची पुलिस, कर रही है पूछताछ

जहानागंज थाना के मोलनापुर गांव निवासी नरसिंह यादव उर्फ गुड्डू की है बाइक

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. यूपी की राजधानी लखनऊ में गैंगवार में मारे गए हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह की हत्या का प्लान काफी पहले से तैयार किया गया था। हत्यारों ने चोरी की बाइक से लेकर सारी व्यवस्था पहले ही कर ली थी लेकिन मऊ में रहते हुए उसे मारना आसान नहीं था। कारण कि यहां वह कई गनर से घिरा रहता था। इसलिए विरोधी सही मौके के इंतजार में थे और जब अजीत सिंह जिला बदर हुआ तो उन्हें मौका मिल गया और बुधवार को रेकी कर उसकी हत्या कर दी गयी। हत्या के लिए शूटर ही नहीं बल्कि एक बाइक भी आजमगढ़ से गयी थी। जिसे छठ पूजा के दिन मऊ जनपद के चिरैयाकोट से चोरी किया गया था। इसकी जानकारी होने के बाद पुलिस वाहन मालिक को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पता चला कि उसने पहले ही चोरी की एफआईआर दर्ज करा रखी है। साथ ही कुंटू के सात खास गुर्गो पर भी पुलिस की नजर है।

बता दें कि कुंटू सिंह के सानिध्य में अपराध का ककहरा सीखने वाला अजीत सिंह दबंग किस्म का व्यक्ति था। शराब कारोबार में भी उसने गहरी पैठ बना रखी थी। वहीं वह पूर्व विधायक सर्वेश सिंह सीपू हत्याकांड में मुख्य गवाह भी बन गया था। इससे वह कुंटू सिंह ही नहीं बल्कि अन्य विरोधियों के लिए भी सिरदर्द बन गया था। चर्चा तो यहां तक है कि अजीत सिंह की हत्या में सिर्फ कुंटू सिंह ही नहीं बल्कि कुछ और लोगों का हाथ है। मुखबिरी का शक भी उसके किसी करीबी पर है।

कारण कि जिस समय अजीत की हत्या हुई वह दावत में जा रहा था और अंतिम समय में उसका कार्यक्रम बदल गया। इसके बाद भी बदमाशों को उसके सही लोकेशन का पता लग गया। यही वजह है कि पुलिस मोहर सिंह और एक महिला की भूमिका की जांच कर रही है। वहीं दूसरी तरफ यह भी साफ हो गया है उसकी हत्या में प्रयोग की गयी बाइक आजमगढ़ जिले के जहानागंज थाना क्षेत्र के मोलनापुर निवासी नरसिंह यादव की है।

अजीत हत्याकांड में उपयोग की गयी दो बाइकों की बरामदगी के बाद यह सूचना आजमगढ़ पुलिस को दी गयी। बताया गया कि इसमें एक ग्लैमर बाइक है। इस पर मऊ जिले का नंबर लगा हुआ है, जो फर्जी है। आजमगढ़ पुलिस ने जांच किया तो पता चला कि बाइक जिले के जहानागंज थाना क्षेत्र के मोलनापुर गांव निवासी नरसिंह यादव उर्फ गुड्डू की है।
इसके बाद जहानागंज व चिरैयाकोट पुलिस नरसिंह यादव के घर छापेमारी करने पहुंच गई। नरसिंह यादव को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ किया तो पता चला कि उसकी बाइक छठ पर्व के दिन चिरैयाकोट बाजार से चोरी हो गई थी, जिसकी एफआईआर भी उसने चिरैयाकोट थाने में दर्ज कराई है। पुलिस का मानना है कि हत्या के लिए लंबी प्लानिंग की गयी थी। पहले बाइक चुरायी गयी फिर सही मौके का इंतजार कर अजीत को गोली मारी गयी।

BY Ran vijay singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned